Samachar Nama
×

Airtel, Jio, BSNL और Vi के लिए बड़ी मुसीबत बनी Heatwave, टेलीकॉम कंपनियों को सेवाएं जारी रखने में बड़ी चुनौती जाने कैसे ? 

Airtel, Jio, BSNL और Vi के लिए बड़ी मुसीबत बनी Heatwave, टेलीकॉम कंपनियों को सेवाएं जारी रखने में बड़ी चुनौती जाने कैसे ? 

टेक न्यूज़ डेस्क - क्या लू के कारण मोबाइल सेवाएं प्रभावित हो सकती हैं? जी हां, हीटवेव इन दिनों टेलीकॉम कंपनियों के लिए सबसे बड़ी टेंशन बन गई है। इसका असर मोबाइल सेवाओं को जारी रखने से लेकर नेटवर्क विस्तार तक है। इन दिनों पूरे उत्तर भारत में जबरदस्त गर्मी पड़ रही है और आने वाले दिनों में गर्मी से राहत मिलने की संभावना बहुत कम है. मौसम विभाग के मुताबिक मई और जून में भीषण गर्मी पड़ने की आशंका है. टेलीकॉम कंपनियों एयरटेल, जियो, बीएसएनएल और वीआई (वोडाफोन-आइडिया) के लिए यह एक बुरी खबर है।

नेटवर्क विस्तार प्रभावित होगा
एक रिपोर्ट के मुताबिक, विशेषज्ञों का मानना है कि बढ़ती गर्मी के कारण टेलीकॉम कंपनियों के लिए सबसे बड़ी टेंशन मोबाइल सेवाएं जारी रखना और नेटवर्क विस्तार करना है। लगातार लू चलने और बढ़ती गर्मी के कारण मोबाइल टावर की 24*7 सेवा जारी रखने के लिए एसी लगाने की जरूरत पड़ रही है. इसका खर्च टेलीकॉम कंपनियों के राजस्व पर एक और अतिरिक्त बोझ बन सकता है. इसके अलावा अधिक गर्मी के कारण टावर लगाने का काम भी जल्दी नहीं हो पाएगा.

देश के दूरदराज के इलाकों में जहां बिजली कटौती की समस्या है, वहां जनरेटर लगाने की जरूरत होगी। साथ ही इसके ईंधन का खर्च भी टेलीकॉम ऑपरेटर द्वारा वहन किया जाएगा। फिलहाल चारों टेलीकॉम कंपनियां एयरटेल, जियो, वोडाफोन-आइडिया और बीएसएनएल अपने टावरों को अपग्रेड कर रही हैं। एयरटेल और जियो अपने सभी टावरों को 5जी सेवा के अनुकूल बना रहे हैं। साथ ही बेहतर कनेक्टिविटी के लिए अतिरिक्त टावर भी लगाए जा रहे हैं. वहीं, वोडाफोन-आइडिया भी 5जी लॉन्च करने की तैयारी में है, जिसके लिए टावर अपग्रेड की प्रक्रिया चल रही है।

मोबाइल कनेक्टिविटी जारी रखने के लिए संघर्ष करें
सरकारी टेलीकॉम कंपनी बीएसएनएल भी अगस्त में देश में 4जी सेवा शुरू करने जा रही है। इसके लिए कंपनी देशभर में 1.9 लाख मोबाइल टावर लगाने जा रही है। इतना ही नहीं, बीएसएनएल अपने सभी टावरों को 4जी के साथ-साथ 5जी के लिए भी अनुकूल बना रहा है, ताकि भविष्य में 5जी सेवा भी लॉन्च की जा सके। उद्योग विशेषज्ञों का मानना है कि लू और बढ़ती गर्मी के कारण टावर विस्तार की प्रक्रिया धीमी हो सकती है. धीमे नेटवर्क अपग्रेड के कारण यूजर्स को मोबाइल कनेक्टिविटी से जुड़ी समस्याओं का भी सामना करना पड़ सकता है।

Share this story

Tags