Samachar Nama
×

अब यूजर्स देख पाएंगे 100 साल से भी पुराना कंटेंट, OpenAI ने की Time Magazine के साथ साझेदारी, जाने क्या होंगे फायदे 

अब यूजर्स देख पाएंगे 100 साल से भी पुराना कंटेंट, OpenAI ने की Time Magazine के साथ साझेदारी, जाने क्या होंगे फायदे 

टेक न्यूज़ डेस्क - चैटजीपीटी बनाने वाली कंपनी ओपनएआई लगातार अपने चैटबॉट को बेहतर बनाने के लिए काम कर रही है। अब ओपनएआई ने दुनिया की प्रतिष्ठित टाइम मैगजीन के साथ साझेदारी की है। इसका मकसद चैटजीपीटी को एक बेहतर प्लेटफॉर्म बनाना है। कहा गया है कि ऐसा करने से चैटजीपीटी को 101 साल पुराने आर्काइव मिल जाएंगे।

चैटजीपीटी बेहतर होगा
यानी चैटजीपीटी 101 साल पुरानी किसी घटना के बारे में ज्यादा बेहतर तरीके से बता सकेगा। मंगलवार 27 जून को कहा गया कि इस साझेदारी का मकसद टाइम मैगजीन के कंटेंट से ओपनएआई के सभी प्रोडक्ट को बेहतर बनाना है।

यूजर्स को सटीक जवाब मिलेंगे
रिपोर्ट के मुताबिक ओपनएआई चैटजीपीटी यूजर्स को टाइम मैगजीन का 101 साल पुराना कंटेंट दिखाएगा। समझौते की शर्तों के तहत ओपनएआई पिछले 101 सालों से टाइम के मौजूदा और ऐतिहासिक कंटेंट का इस्तेमाल अपने बड़े लैंग्वेज मॉडल को प्रशिक्षित करने और उसे बेहतर जवाब देने के लिए तैयार करने में कर सकेगा।

मिशन को आगे बढ़ाना है मकसद
इस साझेदारी के बारे में बात करते हुए टाइम के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर मार्क हॉवर्ड ने कहा कि हमारा मकसद ओपनएआई के साथ मिलकर लोगों तक विश्वसनीय जानकारी पहुंचाना है। यह साझेदारी हमारे मिशन को आगे बढ़ाती है। हम पाठकों के अनुभव को बेहतर बनाने के लिए सालों से काम कर रहे हैं। हम टाइम की पत्रकारिता को वैश्विक स्तर पर दर्शकों तक पहुंचाने के लिए नए-नए तरीके अपनाते रहते हैं। यह साझेदारी ऐसे समय में हुई है, जब कई प्रकाशनों ने चैटजीपीटी पर उसके कंटेंट की नकल करने का आरोप लगाया है। इसके बाद कंपनी ने कई बड़े प्रकाशकों के साथ भी साझेदारी की। इसमें मुख्य रूप से टाइम मैगजीन के साथ साझेदारी शामिल है।

Share this story

Tags