×

कल मनाया जाएगा विजयादशमी का महापर्व, जानिए इसे मनाने की संपूर्ण विधि

know significance of dussehra vijayadashami 2021 puja vidhi

ज्योतिष न्यूज़ डेस्क: दशहरा या विजयादशमी का पर्व हिंदू धर्म के लोगों के लिए बहुत ही खास होता हैं वही आश्विन मास की शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को सायंकाल तारा उदय होने के समय विजयकाल रहता हैं इसलिए इसे विजयादशमी या फिर दशहरा कहा जाता हैं

know significance of dussehra vijayadashami 2021 puja vidhi

इस साल ये तिथि 15 अक्टूबर दिन शुक्रवार यानी कल पड़ रही हैं मान्रूता है कि जब प्रभु श्रीराम की पत्नी माता सीता को लंका का राजा रावण अपहरण करके ले गया तब नारद मुनि के निर्देश के अनुसार श्रीराम ने शक्ति की साधना का नौ दिन व्रत करके भगवती दुर्गा को प्रसन्न कर, विजय का वर प्राप्त किया और रावण की लंका पर चढ़ाई की। इसी आश्विन शुक्ल दशमी के दिन श्रीराम ने रावण का वध कर विजय प्राप्त की थी। तब से इस तिथि को विजयादशमी के रूप में मनाया जाता हैं। 

know significance of dussehra vijayadashami 2021 puja vidhi

विजयादशमी के दिन अपराजिता पूजन व शमी पूजन का विधान हैं स्कंद पुराण के अनुसार जब दशमी नवमी से संयुक्त हो तो अपराजिता देवी का पूजन दशमी तिथि को उत्तर पूर्व दिशा में दोपहर के समय विजय और कल्याण की कामना के लिए किया जाना चाहिए।

know significance of dussehra vijayadashami 2021 puja vidhi

इसके लिए सबसे पहले पवित्र स्थान पर चंदन से आठ कोण दल बनाकर संकल्प करना चाहिए।  ‘मम सकुटुम्बस्य क्षेमसिद्धयर्थ अपराजिता पूजन करिष्ये’. इसके बाद उस आकृति के बीच में अपराजिता का आवाहन करना चाहिएसाथ ही दाहिने और बायें ओर जया एक विजया का आवाहन करना चाहिए इसके बाद ‘अपराजितायै नमः जयायै नमः विजयायै नमः’ मंत्रों के साथ षोडशोपचार पूजन करना चाहिए जब पूजा कर लें तो उसके बाद प्रार्थना करें कि हे देवी, यथाशक्ति मैंने जो पूजा अपनी रक्षा के लिए की है उसे स्वीकार कर आप अपने स्थान को जा सकती हैं। 
know significance of dussehra vijayadashami 2021 puja vidhi

Share this story