Samachar Nama
×

Patna  ढैंचा की बुआई करें बढ़ेगी पैदावार,आंधी-तूफान और ठनका से बचाव के बारे में जाना 
 

Churu 50 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चली आंधी, बूंदाबांदी, दिन का पारा 2.7 डिग्री गिरकर 42.90 पर


बिहार न्यूज़ डेस्क प्रखंड स्थित ई किसान भवन में  से किसानों के बीच ढैचा बीज का वितरण शुरू किया जा चुका है. गेहूं कटने के बाद खाली खेत में ढैचा बीज को बुवाई करने से किसानों को अनेकों लाभ प्राप्त होते हैं.
ढैचा का बीज गेहूं कटने के बाद जो खाली खेत है,उसमे लगाया जा सकता है. ढैचा की खेती से खेतों में मित्र जीवाणुओं की संख्या में वृद्धि होती है जिस से अगली फसल के उत्पादन में वृद्धि होती है. बुवाई के लगभग 40 दिनो के बाद खेत मे पलटवा कर पानी मे सडाकर खाद का निर्माण किया जाता है ,जिससे खेत मे यूरिया तैयार होता है एव अगली धान की फसल मे कम यूरिया की जरूरत पड़ेगी. मौके पर अरविंद कुशवाहा, कृषि समन्वयक-सह-बीज प्रभारी राजेश कुमार, कृषि समन्वयक राजीव रंजन, कन्हैया तिवारी उपस्थित रहे.
पोलियो अभियान के लिए हुई बैठक

पीएचसी में पोलियो अभियान के लिए एमओआईसी शब्बीर अख्तर की अध्यक्षता में बैठक आयोजित हुई. जिसमे आशा और सेविका के साथ पीएचसी के अधिकारी मौजूद थे. बैठक में पोलियो अभियान के लिए टीम का गठन, ड्रॉप बॉक्स, अधिकारियो का निर्देश, समय सीमा का पालन, लोगों को जागरूक करने, पोलियो की सार्थकता, परिजनो को जानकारी देने के मुद्दे पर चर्चा हुई.
आंधी-तूफान और ठनका से बचाव के बारे में जाना सुरक्षित  के तहत प्रखंड के सभी स्कूलों में मई महीने के इस तीसरे  आंधी-तूफान और ठनका से बचाव के बारे में बच्चों को बताया गया.


पटना  न्यूज़ डेस्क
 

Share this story