Samachar Nama
×

Patna  गांवों में सोलर स्ट्रीट लाइट की मुख्यालय से होगी निगरानी
 

Patna  गांवों में सोलर स्ट्रीट लाइट की मुख्यालय से होगी निगरानी


बिहार न्यूज़ डेस्क  मुख्यमंत्री ग्रामीण सोलर स्ट्रीट लाइट योजना के तहत राज्य के दूरदराज गांवों में लगे हर बल्ब की निगरानी होगी. किस पोल पर कौन बल्ब लगा है, वह कितनी देर जल रहा है, आधा जल रहा है या पूरा जल रहा है, पटना में बैठे अधिकारी यह देख सकेंगे. निगरानी के लिए ब्रेडा (बिहार रिन्यूअबल इनर्जी डेवलपमेंट एजेंसी) की ओर से विशेष समेकित निगरानी प्रणाली (सीएमएस) विकसित की जा रही है.

अधिकारियों के अनुसार निगरानी की व्यवस्था त्रि-स्तरीय होगी. गांवों में लगी स्ट्रीट लाइटों की निगरानी सबसे पहले प्रखंड स्तर के अधिकारी करेंगे. प्रखंडों में लगे डैशबोर्ड पर यह दिखेगा कि कितनी पंचायत के किस वार्ड में कितने बल्ब जल रहे हैं और कितने बंद हो चुके हैं. अगर जल रहे हैं तो वह पूरी रोशनी दे रहे हैं या केवल आधी. यही नहीं यह भी निगरानी हो सकेगी कि गांवों में लाइटें पूरी रात जल रही हैं या दो-चार घंटे में ही बंद हो जा रही हैं. प्रखंड स्तर पर होने वाली इस निगरानी से इस योजना की जमीनी हकीकत का पता चलेगा.
निगरानी की दूसरी व्यवस्था जिलाधिकारी के स्तर पर होगी निगरानी की दूसरी व्यवस्था जिलाधिकारी के स्तर पर होगी. डीएम कार्यालय में लगे डैशबोर्ड में यह पता चल सकेगा कि जिले के किस प्रखंड के कितनी पंचायतों में कहां-कहां बल्ब जल रहे हैं ओर कितने बंद हैं. जबकि राज्यस्तर पर ब्रेडा और पंचायती राज विभाग में एक डैश बोर्ड होगा. राज्य स्तर पर दोनों विभागों के अधिकारी यह देख सकेंगे कि किस जिले में कितनी लाइटें जल रही हैं और कितनी बंद हैं. प्रखंडवार बल्ब जलने की क्या स्थिति है. समेकित रिपोर्ट के आधार पर जिला से लेकर प्रखंड और फिर पंचायत व गांव स्तर तक की रिपोर्ट देखी जा सकेगी कहां कितनी लाइटें जल रही हैं और कितनी बंद हैं.


पटना  न्यूज़ डेस्क

Share this story