Samachar Nama
×

Noida  कच्चा माल महंगा होने से उद्यमियों की मुसीबत बढ़ी

Noida  कच्चा माल महंगा होने से उद्यमियों की मुसीबत बढ़ी

उत्तरप्रदेश न्यूज़ डेस्क  कच्चे माल के दाम बढ़ने से ऑटो इलेक्ट्रिकल के उपकरण तैयार करने वाले कंपनियों की परेशानी बढ़ गई. ऑटो इलेक्ट्रिकल के कच्चे माल के दामों में 10 से 20 प्रतिशत से अधिक का उछाल आया है. इससे उद्यमियों का मुनाफा कम हो गया है. उद्यमी कच्चे माल के दामों पर नियंत्रण करने के लिए सरकार से हस्तक्षेप करने की मांग कर रहे हैं.

एनईए के उपाध्यक्ष और सेक्टर-58 में ऑटो इलेक्ट्रिकल कंपनी के एमडी सुधीर श्रीवास्तव ने बताया कि ऑटो इलेक्ट्रिकल में कॉपर, पीवीसी, अच्छी गुणवत्ता की प्लास्टिक और ब्रांस आदि का प्रयोग होता है. कॉपर के दामों का नियंत्रण लंदन से होता है. बीते दो सप्ताह में कॉपर के दामों में 10 से 15 प्रतिशत तक उछाल आया है. इसी तरह पीवीसी के दामों में भी 20 प्रतिशत से अधिक का उछाल आया है. विश्व बाजार में बढ़ती मांग और अस्थिरता की वजह से दामों में उछाल आ रहा है, जिसकी वजह से शहर के उद्यमियों की परेशानी बढ़ रही है. अभी तक कॉपर के दाम 750 रुपये प्रति किलोग्राम था, जोकि अब बढ़कर 850 रुपये प्रति किलोग्राम हो गया है.

कुछ इसी तरह ही पीवीसी के दामों में इजाफा हुआ है. 110 से 115 रुपये प्रति किलोग्राम मिलने वाली पीवीसी अब 135 से 140 रुपये प्रति किलोग्राम मिल रही है. ऐसे में उद्यमियों की परेशानी लगातार बढ़ती जा रही है. केंद्र सरकार से कच्चे माल के दामों को नियंत्रण करने के लिए हस्तक्षेप करते हुए समिति के गठन की लगातार मांग की जा रही है. ताकि उद्यमियों को कुछ राहत मिल सके.

50 इकाइयां ऑटो इलेक्ट्रिकल उत्पाद बना रहीं

शहर में ऑटो इंडस्ट्रीज के लिए इलेक्ट्रिकल उपकरण तैयार करने वाली ऑटो इलेक्ट्रिकल इकाइयों की संख्या 50 से अधिक है. इन कंपनियों में 15 से 20 हजार श्रमिक काम करते हैं. इन कंपनियों का सालाना कारोबार करीब 40 हजार करोड़ रुपये का होता है. इनमें कई नामी कंपनियां भी शामिल हैं. ऑटो इलेक्ट्रिकल के कच्चे माल का आयात देश के अंदर दिल्ली, फरीदाबाद, अहमदाबाद, गुरुग्राम आदि शहरों से होता है. वहीं विदेशों में यूके, बंग्लादेश, दक्षिण कोरिया, जापान, जर्मनी, चीन व सिंगापुर से होती है. इसी तरह ऑटो इलेक्ट्रिकल के तैयार उपकरण का निर्यात नोएडा व ग्रेटर नोएडा के अलावा हरियाणा, चेन्नई, तमिलनाडू, पंजाब, पूणे व झारखंड आदि राज्यों में होता है. वहीं विदेशों में पैलेंड, इजराइल, यूएसए आदि में निर्यात होता है.

ऑटो इलेक्ट्रिकल के कच्चे माल के दामों में इजाफा होने से उद्यमियों की परेशानी लगातार बढ़ती जा रही है. अब उद्यमियों को बगैर मुनाफे के ही पुराने ऑर्डर पूरे करने पड़ रहे हैं. नए ऑर्डर बढ़ी हुई कीमतों में लिए जाएंगे. -सुधीर श्रीवास्तव, उपाध्यक्ष, एनईए

 

 

नोएडा न्यूज़ डेस्क

Share this story

Tags