Samachar Nama
×

Nalanda हादसे को आमंत्रण दे रहे हिलसा के चार जर्जर पुल

Aasam एंबुलेंस और टेंपो की भिड़ंत में चार की मौत, दूसरे हादसे में गई दो लोगों की जान, नौ घायल

बिहार न्यूज़ डेस्क हाल के दिनों में अररिया, सिवान के बाद मोतिहारी में निर्माणाधीन पुल भर-भराकर गिर गये थे. जबकि, कुछ जगहों पर पुराने पुलों के गिरने की शिकायतें भी मिली थीं. नालंदा के हिलसा-नूरसराय और हिलसा के बिहारी रोड में चार पुल ऐसे हैं जो काफी जर्जर हो चुके हैं. इन पुलों को अंग्रेज जमाने में बनाया गया था. देखरेख के अभाव में इनकी स्थिति जीर्ण-शीर्ष हो चुकी है. नित्य दिन इन पुलों के ऊपर से छोटे-बड़े सैकड़ों वाहन गुजरते हैं. हमेशा अनहोनी की आशंका बनी रहती है. बावजूद, जिम्मेवार अधिकारी इसकी सुध नहीं ले रहे हैं.

हिलसा-नूरसराय मुख्य मार्ग पर चार पुलों के जर्जर और संकीर्ण होने से वाहन चालकों के साथ ही पैदल चलने वालों को रोज फजीहत उठानी पड़ती है. स्थानीय ग्रामीणों द्वारा पुराने पुल की जगह नया बनाने के लिए कई बार मंत्री और अधिकारी को आवेदन भी दिये गये थे. लेकिन, स्थिति जस के तस बनी हुई है. करियावां निवासी राजकुमार प्रसाद व विनोद चौधरी बताते हैं कि करियावां और डीहा गांव के पास अंग्रेजों के शासनकाल में लकड़ी का पुल बनाया गया था. बाद में 2002 में पुल की चौड़ाई कम रहने के बावजूद लकड़ी के पुल को हटाकर उसी पर सीमेंट पाया की ढलाई कर सिर्फ खानापूर्ति कर दी गयी. 2016 में थरथरी के ग्रामीणों ने हिलसा-नूरसराय पथ का चौड़ीकरण करते हुए डीहा व करियावां में नया पुल निर्माण के लिए आवेदन दिया था. लेकिन, अब तक कुछ नहीं हो सका.

बिहारशरीफ जिला मुख्यालय को जोड़ने वाले हिलसा - नूरसराय मुख्य मार्ग पर हिलसा महादेव स्थान के समीप डोर नदी पर अंग्रेज के जमाने का बना पुल जर्जर हो गया है. इसके ऊपर से गुजरने में वाहन चालकों को डर लगता है. हादसे की आशंका बनी रहती है. जर्जर पुल को ध्वस्त कर नया पुल बनाने के लिए आठ दिन पहले जन कल्याण संघर्ष एंड वेलफेयर सोसायटी द्वारा हिलसा के बिहारी रोड में कैम्प लगाकर हस्ताक्षर अभियान चलाया गया था. सोसायटी के टुनटुन यादव, विकाश चत्रवंशी, रजनीश रंजन व अन्य बताया कि डोर नदी पर बना पुल कभी पुराना हो चुका है. कभी भी हादसा हो सकता है. पुल के संकीर्ण रहने के कारण प्रतिदिन जाम लगता है. सड़क का चौड़ीकरण कार्य कई बार कराया गया. लेकिन, अंग्रेज शासनकाल में बने पुल की सिर्फ मरम्मत कराया गया.

नालंदा  न्यूज़ डेस्क

Share this story