Samachar Nama
×

Nalnda जीविका दीदियों का भी होगा अब चकाचक भवन, बड़े पैमौने पर कार्यरत हैं जीविका ग्राम संगठन 
 

Nalnda जीविका दीदियों का भी होगा अब चकाचक भवन, बड़े पैमौने पर कार्यरत हैं जीविका ग्राम संगठन 


बिहार न्यूज़ डेस्क जीविका दीदी व कैडर को बैठक करने के लिए किसी के दालान या बरामदे में आश्रय लेने की जरूरत नहीं होगी. बहुत जल्द प्रखंड स्तरीय जीविका कार्यालय का अपना भवन होगा. जिले के सभी प्रखंडों में 14 लाख 45 हजार 256 रुपये से चकाचक भवन का निर्माण होगा. मनरेगा डीपीओ बिट्टू कुमार सिंह ने बताया कि जीविका दीदी व कैडर को बैठने के लिए हर प्रखंड में जीविका भवन का निर्माण करने की स्वीकृति मिली है.
सीओ से जमीन उपलब्घ कराने का अनुरोध किया गया है. जमीन मुहैया होने पर निर्माण शुरू करा दिया जाएगा. भवन का नाम स्वयं सहायता समूह व जीविका ग्राम संगठन दिया जाना है. विभाग के अधिकारियों की मानें तो जीविका को और सशक्त बनाने की पहल शुरू कर दी गयी है.
ग्रामीण विकास अभिकरण के जरिये मनरेगा की राशि से जिले के सभी प्रखंडों में भवन का निर्माण होगा. प्रखंडों में बनने वाला भवन 900 वर्ग फीट में होगा. निर्माण कार्य संवेदक द्वारा नहीं कराया जायेगा. क्रियान्वयन एजेंसी का चयन जिला कार्यक्रम समन्वयक द्वारा किया जायेगा. इस भवन के निर्माण के

लिए ई-एस्टीमेट बनाया जाएगा. योजना पूर्ण करने की अधिकतम अवधि छह माह होगी. भवन में प्रखंड स्तरीय कार्यालय होगा. साथ ही, इसमें एक मीटिंग हॉल भी होगा. सभी तरह की बुनियादी सुविधाएं भी होंगी.
जिले में काफी संख्या में स्वयं सहायता समूह एवं जीविका ग्राम संगठन कार्यरत हैं. इनके द्वारा महिलाओं के आर्थिक एवं सामाजिक उत्थान से संबंधित कार्य किए जा रहे हैं. इन्हीं सबों के मद्देनजर जीविका भवन निर्माण की योजना तैयार की गई है.
डीडीसी हैं पदेन अध्यक्ष
योजना क्रियान्वयन व कार्य पर निगरानी जल्द जमीन चिह्नित करके काम शुरू कराने के लिए विभाग द्वारा टीम भी गठित की गयी है. टीम के अध्यक्ष डीडीसी होंगे. जिला कार्यक्रम समन्वयक सचिव, मनरेगा डीपीओ, कार्यपालक अभियंता व एक पीओ सदस्य होंगे.
जीविका के कार्यों में होगी सहूलियत
जीविका के माध्यम से महिलाओं व उनके परिवार का उत्थान किया जा रहा है. इसके शुरू होने से समाज के नीचले तबके के लोगों का मौन विकास हो रहा है. यह विकास दूरगामी प्रभाव डालेगा. जिले में सैकड़ों ऐसी महिलाएं हैं, जो जीविका से जुड़कर अपने परिवार को आर्थिक रूप से सबल बनाया है.

नालंदा  न्यूज़ डेस्क

Share this story