Samachar Nama
×

Nalanda में पीएचईडी के 17 टेंडर किये गये रद्द, जांच में अनियमितता मिलने पर लिया गया फैसला

Indore संजीवनी क्लीनिक का काम शुरू नहीं करने पर टेंडर होगा निरस्त, निगमायुक्त ने ली समीक्षा बैठक

बिहार न्यूज़ डेस्क पीएचईडी द्वारा नालंदा में हर घर नल-जल योजना के तहत करीब 41 करोड़ के 17 टेंडर को  रद्द कर दिया गया है. महागठबंधन सरकार के कार्यकाल के दौरान सारे टेंडर किये गये थे. 98 नये टोलों में हर घर नल का जल पहुंचाना था. रद्द किये टेंडरों में पीएचईडी के बिहारशरीफ प्रमंडल के 11 तो हिलसा प्रमंडल के छह शामिल हैं. जांच में नियमों का पालन न होने पर विभाग ने यह फैसला लिया है. अब एक सप्ताह के अंदर नये सिरे से निविदा आमंत्रित कर टेंडर की प्रक्रिया शुरू करने की तैयारी चल रही है. योजना के तहत बिहारशरीफ प्रमंडल की 55 पंचायतों की करीब 62 नयी बसावटों (टोलों) में करीब 23 करोड़ से हर घर तक नल का जल पहुंचाना था.

जबकि, हिलसा अनुमंडल के 36 नये टोलों में नल-जल योजना पर करीब 18 करोड़ खर्च होना था. शुरुआत में चार माह में काम पूरा करने का लक्ष्य रखा गया था. परंतु, टेंडर रद्द होने और पुन सारी प्रक्रिया पूरी कर काम प्रारंभ करने में कम से कम डेढ़ से दो माह लगना तय है. तबतक नये टोलों के लोगों को नल का जल के लिए इंतजार करना होगा.

5 साल तक रखरखाव जिन वार्डों में नल-जल का काम होना था, उसका रखरखाव भी पांच साल तक काम करने वाली एजेंसी को करना था. पाइप में लिकेज, मोटर का खराब होना व अन्य तरह की तकनीकी परेशानी आने पर ठीक करने की जवाबदेही एजेंसी को दी गयी थी.

जल्द निकलेगा दोबारा टेंडर बिहारशरीफ प्रमंडल के एग्जीक्यूटिव इंजीनियर बालमुकुंद कुमार तथा हिलसा के राजेश कुमार कहते हैं कि विभाग के वरीय अधिकारियों के आदेश पर सारे टेंडर को रद्द किया गया है.

 

नालंदा  न्यूज़ डेस्क

Share this story