Samachar Nama
×

Nainital कुमाऊं में बारिश ने मचाई हफर-तफरी, दो युवकों की डूबने से मौत, पानी में डूबा रेलवे ट्रैक-कई ट्रेन बाधित

vvv

नैनीताल न्यूज़ डेस्क !! कुमाऊं में लगातार हो रही भारी बारिश अब जानलेवा साबित हो रही है. तराई में जलभराव से हालात खराब हो गए हैं. नदी में डूबने से दो युवकों की मौत हो गयी और एक लड़की समेत तीन लोग लापता हैं. भारी बारिश के कारण सड़कों के बाद ट्रेन सेवाएं भी प्रभावित हुई हैं. चीन सीमा पार छह दिनों के लिए बंद है। मलबा आने से जिले के 112 राज्य राजमार्गों और संपर्क मार्गों पर यातायात ठप हो गया है। चंपावत जिले के टनकपुर और बनबसा के मैदानी इलाकों में जलभराव को देखते हुए मंगलवार और बुधवार को स्कूलों में छुट्टी भी घोषित कर दी गई है। भारी बाढ़ के कारण रुद्रपुर, बाजपुर, खटीमा समेत तराई के कई इलाके जलमग्न हो गए हैं।

हलद्वानी में गौला नदी के तेज बहाव के कारण गौलापार इंटरनेशनल स्टेडियम के पिछले हिस्से में भूकंप आने से स्टेडियम को भी खतरा हो गया है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कुमाऊं कमिश्नर दीपक रावत से पल-पल की अपडेट ली. मुख्यमंत्री मंगलवार को टनकपुर, बनबसा और खटीमा क्षेत्र के बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई और जमीनी निरीक्षण करेंगे और प्रभावित लोगों से मुलाकात करेंगे. देहरादून में बारिश के पानी में नहाते समय एक लड़की का पैर फिसल गया और वह नाले में फंस गई. सोमवार को खटीमा के हल्दी गांव में मूसलाधार बारिश के पानी में डूबकर हल्दी घेरा निवासी 19 वर्षीय प्रिंस कुमार और 18 वर्षीय सनी कुमार की डूबने से मौत हो गई। दोनों युवक पानी में फंसे परिवार की मदद करने जा रहे थे. एसडीआरएफ ने ग्रामीणों की मदद से दोनों युवकों के शव को पानी से बाहर निकाला.

वहीं, प्रशासन ने पुलिस, एसडीआरएफ और एनडीआरएफ की टीमों के साथ मिलकर 500 लोगों को जलजमाव वाले इलाकों से बचाया है और उन्हें राहत शिविरों में रखा है. इधर, चंपावत के बनबसा नगर से सटे देवीपुरा ग्राम सभा में 12 साल की सुशीला चंद अपने घर के पास एक पुल के पास खड़ी होकर पानी के तेज बहाव को देख रही थी। सुशीला अचानक फिसल गई और नाले के तेज बहाव में बह गई। बचाव दल उसकी तलाश में जुटे हुए हैं उधम सिंह नगर जिले के शक्ति फार्म के निर्मल नगर ग्राम सभा के बिसवां गांव निवासी संजीत मंडल अपने खेत की फसल देखने के लिए बैगुल नदी के किनारे गए थे. तभी खेत का एक हिस्सा ढह कर नदी में गिर गया और संजीत भी गिरकर नदी में बह गया. निर्मलनगर गांव निवासी 40 वर्षीय जगदीश मंडल भी रविवार की शाम दौरा बांध सीमा क्षेत्र के कटना नदी में मछली पकड़ने गये थे. वह भी जाल में फंस गया और बह गया। जिसका सोमवार शाम तक पता नहीं चला। उधर, लालकुआं रेलवे स्टेशन पर जलभराव के कारण पटरियां पानी में डूब गईं। इसके चलते काठगोदाम से दिल्ली जाने वाली संपर्क क्रांति एक्सप्रेस और लालकुआंटी से काशीपुर व मुरादाबाद जाने वाली पैसेंजर ट्रेन रद्द करनी पड़ी।

120 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला गया
हावड़ा-काठगोदाम एक्सप्रेस, दिल्ली-काठगोदाम एक्सप्रेस और जम्मूतवी-काठगोदाम एक्सप्रेस को रुद्रपुर में रोका गया। टनकपुर थाने के पास जलभराव से निपटने के लिए एसडीआरएफ और पुलिस ने रविवार दोपहर तीन बजे मोर्चा संभाला और 120 लोगों को सुरक्षित निकालकर होटलों में ठहराया। पिथौरागढ़ जिले में तवाघाट-गर्बाधार-लिपुलेख मार्ग भारी चट्टान और मलबा गिरने से 13 स्थानों पर बंद है।

उत्तराखंड न्यूज़ डेस्क !!

Share this story

Tags