Samachar Nama
×

Muzaffarpur महिला मरीज की मौत पर निजी अस्पताल में हंगामा

Jamshedpur ग्वालापाड़ा में भिड़े दो पक्ष, हंगामा, पुलिस ने किया बल प्रयोग, सभी को खदेड़ा

बिहार न्यूज़ डेस्क एसकेएमसीएच के पास निजी अस्पताल में भर्ती गोली लगने से जख्मी महिला की इलाज के दौरान मौत हो गई.  परिजनों ने अस्पताल का बिल अधिक होने पर हंगामा शुरू कर दिया. करीब डेढ़ घंटे से अधिक समय तक हंगामा चला.

सूचना पर पहुंची पुलिस ने परिजनों शांत को कराया. मृतका जसिया देवी सीतामढ़ी के बाजपट्टी के बलहा रसूलपुर निवासी इंदल मुखिया की पत्नी थी. इंदल मुखिया ने बताया कि पत्नी 21  की रात करीब 7 बजे रसूलपुर बाजार से सब्जी खरीद कर लौट रही थी. इस दौरान घर से 50 मीटर दूर बाइक सवार अपराधियों ने गोली मार दी. एक गोली पेट को छेदते हुए निकल गई, जबकि दूसरी गोली पीठ में फंस गई. स्थिति गंभीर देख डॉक्टरों ने एसकेएमसीएच रेफर कर दिया. एंबुलेंस ड्राइवर कम खर्च में अच्छा इलाज कराने का झांसा देकर निजी अस्पताल ले आया.  की देर रात एक बजे पत्नी की मौत हो गई. अस्पताल का बिल 1 लाख 70 हजार बना. 50 हजार रुपए से अधिक जमा कर दिए थे. कुछ राशि छोड़ने के लिए आग्रह किया गया. लेकिन, अस्पताल प्रबंधन ने मना कर शव नहीं दिया. इधर, अहियापुर थाने के दरोगा सुशील कुमार ने बयान दर्ज करा शव को पोस्टमार्टम के लिए एसकेएमसीएच भेज दिया.

पोस्टमार्टम के बाद शव परिजन को सौंप दिया गया.

बाहर के ट्रकों का अनुबंध किए जाने का विरोध

शेरपुर स्थित इंडियन आयल कॉरपोरेशन के एलपीजी प्लांट प्रबंधन द्वारा राज्य से बाहर निबंधित ट्रकों को गैस सिलिंडर ढुलाई के लिए अनुबंध किए जाने का विरोध शुरू हो गया है. इसको लेकर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन आईओसीएल ने प्लांट के उपमहाप्रबंधक को पत्र लिखकर कंपनी के इस कदम पर आपत्ति जताई है.

एसोसिएशन के अध्यक्ष अवधेश कुमार सिंह ने आरोप लगाया कि प्लांट प्रबंधन ने केंद्रीय मोटर वाहन अधिनियम का उल्लंघन करते हुए दिल्ली में निबंधित गाड़ियों से सिलिंडर के अलावा अन्य सामानों के परिवहन के लिए अनुबंध किया है.

इसमें स्थानीय हितों की अनदेखी की गई है, जो पूरी तरह से नियम विरूद्ध है. इसलिए उनके अनुबंध को रद करते हुए स्थानीय ट्रांसपोर्टरों के वाहनों का अनुबंध होना चाहिए. यदि प्रबंधन ऐसा नहीं करता है तो एसोसियएन इसके लिए कोर्ट जाने को तैयार है.

सिंह ने बताया कि पत्र की प्रतिलिपि मुजफ्फरपुर जिला पदाधिकारी और जिला परिवहन पदाधिकारी को भी दी गई है. उनसे इस संबंध में उचित कार्रवाई करने का आग्रह किया गया है. इसके अलावा आईओसीएल के महाप्रबंधक कार्यालय को भी इसकी सूचना देते हुए इसपर उचित कार्रवाई करने की मांग की गई है.

 

 

मुजफ्फरपुर न्यूज़ डेस्क 

Share this story

Tags