Samachar Nama
×

Muzaffarpur तीनों किशोरियों के परिजन डीएनए जांच के लिए तैयार

Kochi 'पुलिस ने डीएनए परीक्षण की ओर रुख किया, मारे गए बच्चे के पिता की पहचान के लिए नमूने भेजे

बिहार न्यूज़ डेस्क मथुरा में रेलवे ट्रैक पर शहर की तीन किशोरियों के मिले शव मामले में कोर्ट के आदेश के बाद डीएनए जांच के लिए परिजनों ने हामी भर दी है. तीनों ने  नगर थाना पहुंचकर मंजूरी पत्र पर अपर थानेदार राजकुमार के समक्ष दस्तख्त किए. अब आइओ एसकेएमसीएच को डीएनए जांच के लिए सैंपल एकत्र करने की तिथि मुकर्रर करने को पत्र सौंपेंगे.

एसकेएमसीएच से तिथि मिलने पर किशोरियों के पिता का सैंपल लिया जाएगा. फिर उसे जांच के लिए कोर्ट की अनुमति पर नगर थाना की पुलिस पटना एफएसएल भेजेगी. पुलिस डीएनए जांच के लिए पोस्टमार्टम के बाद तीनों किशोरियों के दांत, बाल व खोपड़ी के हिस्से को सुरक्षित रखे हुई है. गौरी के पिता अमित रजक, माया के पिता राजेश रजक और माही के पिता मनोज सहनी के डीएनए का नमूना लिया जाएगा.

परिजनों ने उठाये थे सवाल मथुरा में तीनों किशोरियों के शव की पहचान के वक्त परिजनों ने सवाल उठाए थे. घटना के तीन दिन बीत जाने और सही से शीतगृह में नहीं रखे होने के कारण शव गल गए थे, जिससे शिनाख्त मुश्किल थी. परिजनों ने कपड़े, सामान व घटनास्थल पर ली गई तस्वीर से शवों की पहचान की थी. परिजनों के सवाल उठाने पर पुलिस ने मथुरा में पोस्टमार्टम के समय तीनों शवों के नमूने को संग्रहित कराया था. जांच अधिकारी एसआई मोहन कुमार ने सीजेएम कोर्ट में अर्जी देकर तीनों शवों के डीएनए का मिलान कराने के लिए किशोरियों के पिता की डीएनए जांच की अनुमति मांगी थी.

क्या है मामला

नगर थाना में दर्ज एफआइआर के अनुसार, योगियामठ मोहल्ले की गौरी, माया और बालूघाट मोहल्ले की माही 13 मई को घर से मंदिर जाने को निकली थीं, जो इसके बाद घर नहीं लौटीं. गौरी व माही ने अपने-अपने घर पर एक-एक पत्र भी छोड़ा था. इसमें दोनों ने बाबा से मिलने हिमालय जाने की बात कही थी. लिखा था कि तीन महीने बाद 13 अगस्त को खुद वापस लौट आएंगी. किसी ने ढूंढने का प्रयास किया तो तीनों एक साथ आत्महत्या कर लेंगी.

 

 

मुजफ्फरपुर न्यूज़ डेस्क 

Share this story

Tags