Samachar Nama
×

Muzaffarpur एसी मिस्त्री व प्लबंर बन 21 घरों में चोरी करने वाले 3 कुख्यात धराये चोरी के जेवरात खरीदने वाले पांच सुनार भी पटना पुलिस के हत्थे चढ़े
 

Muzaffarpur एसी मिस्त्री व प्लबंर बन 21 घरों में चोरी करने वाले 3 कुख्यात धरायेचोरी के जेवरात खरीदने वाले पांच सुनार भी पटना पुलिस के हत्थे चढ़े

बिहार न्यूज़ डेस्क  दीपावली व छठ के दौरान राजधानी में बंद घरों में चोरी की ताबड़तोड़ वारदात कर पुलिस की नाक में दम करने वाले चोर गिरोह के सदस्य पुलिस के हत्थे चढ़ गए. शास्त्रत्त्ी नगर थाना पुलिस ने त्योहार के दौरान पांच थाना क्षेत्र के 21 फ्लैट और घरों से करीब दो करोड़ रुपये की संपत्ति चोरी करने वाले चोर गिरोह के तीन सदस्यों को गिरफ्तार किया है. जबकि चोरी के गहने खरीदने वाले पांच सुनार भी दबोचे गए हैं.

उनकी निशानदेही पर 560 ग्राम भार का सोना और एक किलो 95 ग्राम चांदी के गहने सहित एक लाख 41 हजार रुपये और दरवाजा तोड़ने के उपकरण इत्यादि बरामद किए गए हैं. बरामद जेवरात की कीमत 30 लाख रुपये है. पुलिस अब गिरोह के फरार अन्य बदमाशों की गिरफ्तारी में जुट गई है.
चोरी करने वाले गिरफ्तार आरोपितों की पहचान दीघा निवासी मोहम्मद शाकिर अंसारी उर्फ चांद और सुल्तानगंज के रहने वाले मोहम्मद आसिफ और मोहम्मद तालिब खान के रूप में हुई है. जबकि आरोपित सुनारों के नाम पीरबहोर स्थित दुरुखी गली निवासी राजेश कुमार उर्फ बंटी, चंदन कुमार, सुशांत धोराई व मूल रूप से सांगली महाराष्ट्र के शंकर किरदत्त और सुल्तानगंज के महेंद्रू के रहने वाले राकेश रौशन के रूप में हुई है. शंकर सोना गलाकर उसे खपाने के लिए महाराष्ट्र भेज देता था.
एसएसपी डॉ. मानवजीत सिंह ढिल्लों ने बताया कि दीपावली और छठ पूजा के दौरान पर्व मनाने कई लोग अपने गांव चले गए थे. इसी दौरान चोर गिरोह ने विभिन्न थाना क्षेत्र में बंद घरों से करोड़ों की संपत्ति की चोरी की थी. घटना की शिकायत के बाद पुलिस मुकदमा दर्ज कर बदमाशों के संबंध में जानकारी जुटा रही थी. सीसीटीवी कैमरे फुटेज से मिली तस्वीर और वैज्ञानिक अनुसंधान से बदमाशों की पहचान हुई. जिसके बाद सिटी एसपी मध्य के नेतृत्व में सहायक पुलिस अधीक्षक सचिवालय और शास्त्रत्त्ी नगर के थानेदार राम शंकर सिंह की टीम बनाई गई. उनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस को कोलकाता भी भेजा गया लेकिन उन्हें नहीं पकड़ा जा सका. इसी दौरान शिवपुरी अटल पथ के समीप मौजूद होने की सूचना के बाद पुलिस ने आरोपितों को  गिरफ्तार कर लिया गया. पूछताछ में आरोपितों ने बताया कि उन्होंने चोरी के गहने पीरबहोर और महेंद्रू थाना क्षेत्र में सुनारों को बेच दिए हैं. जिसके बाद पांच सुनारों को भी दबोच लिया गया.
बिजली मैकेनिक और प्लंबर बन करते थे रेकी पुलिस अधिकारी ने बताया कि चोर गिरोह के सदस्य दिन में एसी व बिजली मैकेनिक और प्लंबर बनकर अपार्टमेंट व मोहल्लों में जाते थे. वहां वह घूम-घूम कर रेकी करते थे. इसी दौरान बंद फ्लैट व घरों की पहचान कर रात के वक्त चोरी की वारदात को अंजाम देते थे. चोरी का सामान खपाने के बाद वे कोलकाता व नेपाल भाग जाते थे ताकि पुलिस उन्हें नहीं पकड़ सके. वे चोरी के रुपयों से अय्याशी करते थे. शाकिर खासा कुख्यात है और उसपर पटना के चार थाना क्षेत्र में पहले से 10 मुकदमे दर्ज हैं. गत नवंबर महीने में शास्त्रत्त्ी नगर थाना पुलिस ने चोर गिरोह के पांच शातिर मो. शाहिद, मो. राजा, एजाज अली, फैयाज खान और लंगड़ा को गिरफ्तार किया था. जबकि शातिर शाकिर अपने दो साथियों के साथ कोलकाता फरार होने में सफल हो गया था.


मुजफ्फरपुर न्यूज़ डेस्क 
 

Share this story