Samachar Nama
×

Munger हल्की बारिश से जल रहे अरमान आसमान को निहार रहे किसान

Siwan  हल, बल व ट्रैक्टर के साथ खेतों की जुताई में जुटे किसान, अब-तक 2230 क्विंटल गेंहू का बीज हुए प्राप्त, एक लाख हेक्टेयर में होगी बुआई

बिहार न्यूज़ डेस्क  बारिश हुई लेकिन इतनी कम हुई कि किसान खेत की जुताई को लेकर बस मन मसोस कर रह गये. बारिश के बगैर अब तक धान का बिचड़ा नहीं गिरा पाने से किसान काफी चिंतित हैं. बारिश को लेकर किसान अक्सर आसमान की ओर निहार रहे हैं.

जिले में इस बार 3458 हेक्टेयर में धान के बिचड़े लगाए जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है. लेकिन सबसे परेशान करने वाली बात यह है कि अब तक जिले में एक भी किसानों ने धान का बिचड़ा नहीं गिराया है. जिला कृषि विभाग की ओर से बेहतर फसल उत्पादन को लेकर सारी तैयारी पूर्व से ही पूरी कर ली है. विभिन्न पंचायतों में ग्राम चौपाल का कार्यक्रम भी संचालित किया जा रहा है. किसानों को बेहतर फसल उत्पादन के टिप्स दिए जा रहे हैं. लेकिन सारी तैयारी पर तब पानी फिरते नजर आ रही है जब अब तक मानसून ने दस्तक नहीं दी है. गौरतलब है कि जिले में इस बार भी 36000 हेक्टेयर से भी अधिक धान की रोपाई का लक्ष्य निर्धारित किया गया है. इसके अलावा पोषक अनाजों की भी खेती क्लस्टर के माध्यम से किए जाने के लिए 221 क्लस्टर जिले की विभिन्न पंचायत में बनाए गए हैं. जिला कृषि पदाधिकारी ब्रजकिशोर ने कहा कि खरीफ फसल के बेहतर उत्पादन को लेकर सारी तैयारी पूर्व से ही पूरी कर ली गई है. मानसून के लेट होने से किसान चिंतित है. बावजूद लेट वैरायटी के आधार पर भी मुंगेर जिला धान उत्पादन में पिछले साल की तरह लक्ष्य को हासिल कर लेगा.

पिछले वर्ष भी देर से हुई थी मानसूनी बारिश

पिछले वर्ष 2023 में भी मुंगेर जिले के विभिन्न क्षेत्रों में विलंब से मानसूनी बारिश हुई थी जिसके कारण सुखाड़ की स्थिति बन गई थी. हवेली खड़गपुर की कई पंचायतो को सुखाड़ घोषित भी किया गया था. बावजूद लेट वैरायटी के धान की रोपाई भी अच्छी पैदावार दे गई थी.

क्या कहते हैं किसान

बारिश को लेकर आसमान निहारने वाले प्रगतिशील किसान शिव शंकर झा ने बताया कि अब तक मानसूनी बारिश नहीं होने से धान का बिचड़ा नहीं गिराया है. अब लेट वैरायटी ही एकमात्र विकल्प रह गया है. वहीं किसान शिव शंकर सिंह, मनोज सिंह,बमबम चौधरी ने कहा कि मानसून नहीं आने से हम किसानों में निराशा है. अब लेट वैरायटी ही एकमात्र विकल्प रह गया है .

 

मुंगेर न्यूज़ डेस्क

Share this story

Tags