Samachar Nama
×

Moradabad बाल वाटिका को लेना होगा जादुई पिटारा

Patna  सीबीएसई के 760 स्कूलों ने शुरू की योग की कक्षाएं

उत्तरप्रदेश न्यूज़ डेस्क   सीबीएसई के स्कूलों को बाल वाटिका के लिए जादुई पिटारा लेना होगा. यह जादुई पिटारा बाल वाटिका के बच्चों को खेल-खेल में सिखाने वाला होगा.

यह जानकारी  सीबीएसई की नेशनल करीकुलम फ्रेमवर्क की वर्कशॉप के लाइव प्रसारण में स्कूलों को दी गई. इस दौरान मेरठ शहर के भी प्रधानाचार्यों ने भागीदारी की.

गार्गी गर्ल्स स्कूल की प्रधानाचार्या डॉ. वाग्मिता त्यागी ने बताया कि बाल वाटिका के सेक्शन और उन्हें किस तरह से पढ़ाना है इसके बारे में विस्तार से बताया गया. साथ ही स्कूलों को जादुई पिटारा एप लेने को कहा गया है. इस एप में एक हजार से अधिक कहानियां, फोटो, पहेलियों समेत कई तरह के कंटेंट हैं. इसके जरिए बच्चे खेल-खेल में पढ़ाई कर सकेंगे.

बताया कि जादुई पिटारा में डमरू, रोचक किताब, पपेट आदि भी हैं. यह बाजार में उपलब्ध भी है. ऑनलाइन ऐप के रूप में भी उपलब्ध है. 13 भाषाओं में एक हजार से अधिक कहानियों का संग्रह है.

यह भी पढ़ाया जाएगा एप की मदद से पहली से लेकर पांचवीं कक्षा तक के बच्चे को खास तौर पर गणित और विज्ञान खेल-खेल में पढ़ाया जाएगा. बाल वाटिका यानी छोटे बच्चों को मस्ती के साथ पढ़ाई का माहौल पैदा करने की मंशा का एनईपी 2020 में जिक्र किया गया है

स्किल एजुकेशन पर देना होगा विशेष ध्यान

एमपीजीएस शास्त्रत्त्ीनगर की प्रधानाचार्य और सिटी कोऑर्डिनेटर सपना आहूजा ने वर्कशॉप से लौटकर बताया की सबसे पहले तो स्कूलों को जादुई पिटारा लेना होगा जो बाल वाटिका के लिए होगा. स्किल एजुकेशन में विशेष तौर पर कक्षा 6 से काम किया जाएगा. भाषा को लेकर भी जो भ्रम स्कूलों में था उस पर भी बातचीत की गई. वर्कशॉप में कुछ ही प्रधानाचार्य को शामिल किया गया था. बाकी पूरे देशभर के लिए इसका लाइव प्रसारण किया गया.

 

 

मुरादाबाद न्यूज़ डेस्क

Share this story

Tags