Samachar Nama
×

Mandi हमीरपुर की सहकारी समितियों का होगा कम्प्यूटरीकरण पारदर्शी कामकाज से गबन के मामलों पर लगेगी रोक, 125 सहकारी समितियों का चयन

Mandi हमीरपुर की सहकारी समितियों का होगा कम्प्यूटरीकरण पारदर्शी कामकाज से गबन के मामलों पर लगेगी रोक, 125 सहकारी समितियों का चयन

हिमाचल प्रदेश न्यूज़ डेस्क, हिमाचल के हमीरपुर की सहकारी समितियों का कम्प्यूटरीकरण होगा। जिससे निश्चित तौर पर इन सोसायटियों का काम पारदर्शी होगा। इसके साथ ही ये असेम्बली बैंकों की तरह प्रभावी ढंग से ग्राहकों को सेवाएं प्रदान कर सकेंगी। क्रियान्वयन हेतु सहायक निबंधक सहकारिता विभाग हमीरपुर एवं कांगड़ा केन्द्रीय सहकारी बैंक द्वारा प्रथम चरण में कम्प्यूटरीकरण हेतु 125 जिला आधारित सहकारी समितियों का चयन किया गया है.

वहीं एडीसी जितेंद्र संजता की अध्यक्षता में जिला स्तरीय क्रियान्वयन एवं अनुश्रवण समिति ने इन 125 लेखापरीक्षित सहकारी समितियों को आगे की कार्रवाई के लिए राज्य स्तरीय समिति को भेज दिया है. हरी झंडी मिलते ही इनमें कम्प्यूटरीकरण का काम शुरू हो जाएगा।

सहायक निबंधक हमीरपुर ई. प्रत्यूष चौहान के अनुसार केंद्रीय सहकारिता मंत्रालय द्वारा देश भर की सहकारी समितियों का कंप्यूटरीकरण किया जा रहा है. जिसे नाबार्ड की देखरेख में क्रियान्वित किया जा रहा है। यह प्रोजेक्ट 2516 करोड़ का है।

राज्य सरकार 10% खर्च करेगी
हिमाचल में इस परियोजना पर होने वाले खर्च का 10 प्रतिशत राज्य सरकार वहन करेगी। इसके तहत प्रत्येक सहकारी समिति को करीब चार लाख की सहायता मिलेगी। जिसमें कंप्यूटर, उद्यम, संसाधन, योजना, साफ्टवेयर और सभा कर्मियों का प्रशिक्षण आदि शामिल होंगे। परियोजना की देखरेख जिला हमीरपुर स्थित कांगड़ा सहकारी बैंक करेगा। सहकारी समितियों में बढ़ते गबन और जमा राशि के गबन के कारण लोगों का विश्वास कम होने लगा था।
मंडी न्यूज़ डेस्क!!!


 

Share this story