Samachar Nama
×

Manali  न मलबा हटा, न नदियों का हुआ तटीकरण, कई इलाकों में खतरा अभी भी बरकरार

vvv

मनाली न्यूज़ डेस्क ।। 8 से 11 जुलाई 2023 के बीच हुई त्रासदी को एक साल बाद भी कोई नहीं भूला है. जिले के कई इलाकों में आपदा के निशान देखे जा सकते हैं. हालांकि ब्यास, पार्वती और पिन पार्वती नदियों में बाढ़ के बाद जनजीवन सामान्य हो गया है, लेकिन सैंज, भुंतर और मनाली तक खतरा अभी भी बना हुआ है। कुल्लू-मनाली हाईवे 3 पर भुंतर से मणिकर्ण रोड पर बाढ़ का खतरा है. जिले में जहां-जहां बाढ़ ने कहर बरपाया है, वहां बचाव के कोई इंतजाम नहीं किये गये हैं. बाढ़ नियंत्रण के लिए कुछ ही स्थानों पर क्रेट वॉल लगाई गई है। ऐसे में इस साल की बारिश के मौसम में नदियों का जलस्तर फिर से बढ़ जाएगा, जिससे बड़ी तबाही हो सकती है.

सरकार के आदेश पर जिला प्रशासन ने ब्यास, पिन पार्वती और पार्वती नदियों में ड्रेजिंग का काम किया, लेकिन 50 फीसदी से ज्यादा नहीं हो सका। आपदा के दौरान जिले में 44 स्थानों पर तीन नदियों की धारा बदलने के बाद उन्हें पुराने स्वरूप में लाना पड़ा। प्रशासन की ओर से 25 से 30 स्थानों पर ड्रेजिंग कार्य शुरू किया गया था, लेकिन नदियों में जलस्तर बढ़ने के कारण काम रोकना पड़ा. ऐसे में कई संवेदनशील जगहों से मलबा और पत्थर नहीं हटाए गए हैं और बाढ़ का खतरा बना हुआ है. सरकार और प्रशासन की ओर से बड़े-बड़े दावे किए गए, लेकिन जमीन पर तैयारियां अब भी नाकाफी हैं. बाढ़ के कारण कुल्लू जिले में ब्यास, पार्वती, पिन पार्वती और तीर्थन नदियों से बरसात के मौसम में बाढ़ का खतरा टला नहीं है। आने वाली बरसात में नदी किनारे लगे मलबे के ढेर आफत बन सकते हैं।

इस आपदा में 566 घर क्षतिग्रस्त हो गये
जुलाई 2023 की आपदा में जिले के 565 पक्के व कच्चे घर पूरी तरह नष्ट हो गये थे. जिन्हें प्रशासन ने सरकार की नई नीति के तहत प्रति मकान 7 लाख रुपये मुआवजा राशि दी है. इसके अलावा 559 गौशालाएं और करीब 570 व्यावसायिक परिसर भी इस आपदा से प्रभावित हैं.

बजट के अभाव में काम रुक गया
आपदा के कारण राजमार्गों, कस्बों और कई गांवों में बाढ़ का खतरा है। इन स्थानों पर चैनलाइजेशन किया जाना था, लेकिन तीन प्रमुख नदियों ब्यास, पिन पार्वती और पार्वती में से किसी भी संवेदनशील स्थान का चैनलाइजेशन नहीं किया गया है। बताया जा रहा है कि बजट के अभाव में यह काम नहीं हो सका। हालांकि कुछ स्थानों पर क्रेट वॉल लगाई गई हैं, लेकिन वे भी अपर्याप्त हैं।

हिमाचल न्यूज़ डेस्क ।।

Share this story

Tags