Samachar Nama
×

Madhubani जिले में एंबुलेंस सेवा ठप रहने से दर्जनों मरीजों की बढ़ी मुसीबत

Nainital हल्द्वानी में मरीजों से पहले हांफ रही 108 एंबुलेंस, एंबुलेंस का इंजन गरम होकर हो जाता है बंद, बरसात में घिस चुके टायरों और बिना साइड मिरर के सड़कों पर दौड़ना मुश्किल

बिहार न्यूज़ डेस्क जिले में 102 एंबुलेंस सेवा पूरी तरह से बंद रही. सात सूत्री मांग को लेकर  सुबह से ही एंबुलेंस के चालक और कर्मी हड़ताल पर चले गये.

हड़ताल की वजह से जिले की सभी 54 एंबुलेंस की सेवा मरीजों को नहीं मिली. विभागीय मिली जानकारी के मुताबिक इस एंबुलेंस से 24 घंटे में करीब 100 से अधिक मरीजों को सुविधाएं मिलती थीं, जो हड़ताल की वजह से मरीजों को एंबुलेंस सेवा नहीं उपलब्ध हो सकी. सदर अस्पताल की छह एंबुलेंस का संचालन पूरी तरह से बंद रहा. दोपहर में एंबुलेंस से जुड़े सभी कर्मियों ने सदर अस्पताल परिसर में अपनी आवाज बुलंद की.

सभी गाड़ियों को अस्पताल परिसर में एक जगह पर खड़ी कर अपनी मांगों को पूरा होने तक हड़ताल पर रहने प्रतिबद्धता दुहराई. हालांकि मौसम सुबह से खराब रहने की वजह से समय से सभी एंबुलेंस संघ से जुड़े ड्राइवर और कर्मी नहीं पहुंच सके. ऐसे में दोपहर बाद सभी ने बैठक कर हड़ताल को चट्टानी एकता के साथ जारी रखने का निर्णय लिया. 102 एंबुलेंस कर्मी संघ के भगवान जी मिश्रा, मो. वासीफ रब्बानी, मो. नौसाद आलम, ओम प्रकाश साहु, मो. एजाज अहमद आदि ने बताया कि शंभू चौधरी आदि ने बताया कि कंपनी की मनमानी के खिलाफ सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों में सेवा दे रही एंबुलेंस चालक व कर्मी   की रात 12 बजे के बाद से हड़ताल पर चले गये हैं. हड़ताल से संबंधित जानकारी एंबुलेंस चालक संघ डीएम, सिविल सर्जन, एसीओ, कंपनी सहित अन्य पदाधिकारी को पूर्व में ही दे चुका है.

संघ से जुड़े कर्मियों का कहना है कि है कि श्रम अधिनियम के तहत वेतन भुगतान किया जाय. साथ ही अप्रैल से लेकर अबतक का बकाया वेतन अविलंब भुगतान हो. पांच प्रतिशत सलाना की दर से बढ़ोत्तरी 2021 से ही मिले. कर्मियों ने बताया कि अबतक एंबुलेंस से जुड़े कर्मियों को नियुक्ति पत्र या आईडी कार्ड भी उपलब्ध नहीं कराया गया है. पीएफ व ईएसआई का पूर्ण भुगतान नहीं हो रहा है

 

मधुबनी न्यूज़ डेस्क

Share this story