Samachar Nama
×

Lucknow  यूपी बोर्ड गर्मियों की छुट्टी के बाद सस्ती किताबें, नौ जून तक प्रकाशकों से आवेदन मांगे,16 जून को प्रकाशकों के साथ अनुबंध होगा
 

Kota नए सत्र के 16 दिन बीते, 1000 से ज्यादा स्कूलों में नहीं पहुंची किताबें, जुलाई में बांटे जाने की संभावना


उत्तरप्रदेश न्यूज़ डेस्क  प्रदेश में सस्ती पुस्तकों की समस्याएं शीघ्र ही दूर होंगी. सत्र शुरू होने के दो माह बीत जाने के बाद भी बाजारों से पुस्तकों के गायब रहने के कारण पढ़ाई प्रभावित हो रही थी. अब जाकर इस समस्या के निदान की कोशिश शुरू हुई है. इसके तहत ग्रीष्मावकाश के ठीक बाद प्रदेश के छात्र-छात्राओं को सस्ती किताबें मिलने लग जाएंगी.

तमाम प्रयासों के बाद यूपी बोर्ड के 28 हजार से अधिक स्कूलों में पढ़ने वाले कक्षा नौ से 12 तक के एक करोड़ से अधिक छात्र-छात्राओं को सस्ती किताबें मिलने का रास्ता साफ हुआ है. इस संबंध में माध्यमिक शिक्षा परिषद के सचिव दिब्यकांत शुक्ला ने किताबों के प्रकाशन का अधिकार देने के लिए टेंडर जारी कर नौ जून तक प्रकाशकों से आवेदन मांगे हैं. बताया जाता है कि 16 जून को प्रकाशकों के साथ अनुबंध होगा. इसके बाद विभिन्न विषयों की एनसीईआरटी से अधिकृत 70 और नॉन-एनसीईआरटी की 12 किताबें 30 जून तक बाजार में बिक्री के लिए उपलब्ध हो जाएंगी.
पिछले साल भी पुस्तकों के प्रकाशन में विलम्ब हुआ था और जुलाई के पहले सप्ताह में किताबों का टेंडर जारी हो सका था.
हिन्दी, संस्कृत और उर्दू की किताबें छापने का भी टेंडर
वर्तमान में बाजारों में एनसीईआरटी की किताबें उपलब्ध हैं लेकिन एक तो वह पर्याप्त संख्या में नहीं हैं और दूसरे यूपी बोर्ड की किताबों से महंगी है. लिहाजा छात्रों को बोर्ड की किताबों का बेसब्री से इंतजार है. दूसरी तरफ अधिकृत और त्रुटिहीन किताबें उपलब्ध कराने के मकसद से यूपी बोर्ड ने इस बार हिन्दी, संस्कृत और उर्दू विषयों की किताबों के प्रकाशन का भी टेंडर जारी कर दिया है. अब तक इन तीन विषयों का पाठ्यक्रम तो बोर्ड निर्धारित करता था लेकिन किताबों के प्रकाशन पर बोर्ड का कोई नियंत्रण नहीं था.


लखनऊ न्यूज़ डेस्क
 

Share this story