Samachar Nama
×

Gorakhpur खाद्य तेलों की कीमतों में उतार-चढ़ाव, मुश्किल में ग्राहक, रुपये लीटर सप्ताह भर में गिरीं पॉम, सोया, सरसों की कीमतें
 

Gorakhpur खाद्य तेलों की कीमतों में उतार-चढ़ाव, मुश्किल में ग्राहक, रुपये लीटर सप्ताह भर में गिरीं पॉम, सोया, सरसों की कीमतें

उत्तरप्रदेश न्यूज़ डेस्क   खाद्य तेल कंपनियों से लेकर मुनाफाखोर कारोबारियों के चंगुल में फंसकर छोटे व्यापारियों के साथ आम ग्राहक मुश्किल में फंसे हुए हैं. खाद्य तेलों की कीमतों में उतार चढ़ाव में व्यापारी ही नहीं, ग्राहकों की भी जेब कट रही है. वैवाहिक सीजन में लोगों को कभी अधिक कीमत चुकानी पड़ रही है, तो कभी राहत भी मिल रही है. सप्ताह भर के अंदर पॉम, सोया, सरसों की कीमतें 10 रुपये/ लीटर तक गिरीं हैं.
खाद्य तेलों की खपत आम लोगों के किचन के साथ रेस्टोरेंट और होटलों में होती है. ब्रेड और बिस्किट बनाने वाली फैक्ट्रियों में भी बड़े पैमाने पर इसी खपत होती है. रेस्टोरेंट मालिक रवीन्द्र निषाद का कहना है कि रोज एक से दो टिन सोया तेल खर्च होता है.
सप्ताह भर में कीमतों में 8 से 10 फीसदी तक का उतार चढ़ाव आ रहा है. शादी समारोह में बुकिंग को लेकर दिक्कत हो रही है. कैटरिंग का काम करने वाले संजय गुप्ता का कहना है कि पहले कीमतें महीने भर में बदलती थीं. इसका अंदाजा पहले से हो जाता था. अब तो कीमत के बारे में आकलन करना मुश्किल है. फुटकर किराना कारोबारी केदार गुप्ता का कहना है कि कीमतों को रोज उतार चढ़ाव से बिक्री तो प्रभावित होती है, ग्राहकों से कीमतों को लेकर किचकिच होती है. जो दुकानदार कम कीमत में खरीदारी करता है, वह कम कीमत में ही इसकी बिक्री करता है.

पॉम आयल 100 रुपये प्रति लीटर से कम
पॉम ऑयल की कीमतें एक बार फिर 100 रुपये प्रति लीटर से कम है. मंडी में पॉम ऑयल की कीमत 99 रुपये प्रति लीटर रही. इसी तरह सोया रिफाइंड 158 से घटकर 151 रुपए प्रति लीटर पर आ गया. वहीं सरसों तेल की कीमतें 170 रुपए लीटर से 162 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गई है. चेंबर ऑफ कामर्स के अध्यक्ष संजय सिंघानिया का कहना है कि सभी तेलों में इसी तरह जबरदस्त मंदी ह. यह कारोबार अब सट्टा मार्केट बन गया है. खाद्य तेल के कारोबार को दो झटकों ने बुरी तरह से हिला दिया है. ऐसे ही रहा तो कारोबारी बुरी तरह से बर्बाद हो जाएंगे. चार दशक में ऐसा उतार चढ़ाव कभी नहीं देखा


गोरखपुर न्यूज़ डेस्क
 

Share this story