Samachar Nama
×

Faizabad रामकथा संग्रहालय की वीथिकाओं के निर्माण के लिए हुआ अनुबंध

एमओयू

उत्तरप्रदेश न्यूज़ डेस्क  उत्तर प्रदेश संस्कृति विभाग के अन्तर्राष्ट्रीय रामकथा संग्रहालय के दिन अब बहुरेंगे. श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने इस संग्रहालय को अन्तर्राष्ट्रीय मानकों के आधार पर उच्चीकृत करने के लिए इसकी आंतरिक सज्जा का पुनर्निर्माण करने के अलावा तकनीकी आधार पर अत्याधुनिक बनाने के लिए भारत सरकार के डिपार्टमेंट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी (डीओएसटी) से एमओयू किया है. जबकि स्ट्रक्चर के निर्धारित डिजाइन के अनुसार निर्माण करने की जिम्मेदारी उत्तर प्रदेश राजकीय निर्माण निगम (यूपीआरएनएन) को सौंपी है.

इसकी डिजाइन को पेरिस के विश्व प्रसिद्ध संग्रहालय लुव्र के आधार पर तैयार किया जा रहा है. इस संग्रहालय को भारतीय संस्कृति व स्थापत्य कला के उत्कृष्ट उदाहरण के तौर पर तैयार करने में विशेषज्ञों की मदद ली जा रही है. इसमें आईआईटी चेन्नई के विशेषज्ञ भी सम्मिलित हैं.

इस बारे में भवन निर्माण समिति चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्र ने बताया कि इस संग्रहालय का कांसेप्ट नोट तैयार हो गया है. उन्होंने बताया कि संग्रहालय की चार गैलरियों (वीथिकाओं) को आवश्यकता के अनुरूप तैयार किया जाएगा. उम्मीद है कि अगले चार महीनों में गैलरियों का प्रारम्भिक कार्य पूरा हो जाएगा. इसके बाद प्रदर्शनी से सम्बन्धित आब्जेक्ट को डिस्प्ले के लिए रखने का काम शुरू होगा.

रामायण व अयोध्या के ऐतिहासिक संदर्भ पर बनी थ्री डी फिल्म

भवन-निर्माण समिति चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्र के अनुसार केन्द्रीय पर्यटन मंत्रालय के सहयोग से उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग की ओर से बनवाइ गई डिजिटल गैलरी अगले एक माह में आम श्रद्धालुओं के लिए खोल दी जाएगी.

उन्होंने बताया कि इसके लिए 15  से 15 अगस्त तक का समय तय किया गया. डिजिटल गैलरी का निर्माण 2018-19 में ही तैयार कर लिया गया था लेकिन कतिपय कारणों से यह गैलरी आम श्रद्धालुओं के लिए शुरू नहीं हो सकी. इसमें रामायण व अयोध्या के ऐतिहासिक संदर्भ को समेटते हुए 20-20 मिनट के चार एपिसोड तैयार किए गये है. थ्री डी पर आधारित इस फिल्म का प्रदर्शन चार अलग-अलग गैलरियों में किया जाएगा. नृपेन्द्र मिश्र का कहना है कि भारत सरकार के सहयोग से विज्ञान विभाग हनुमान जी के जीवन पर सेवन डी तकनीक आधारित फिल्म का निर्माण शुरू किया गया है. बताया गया कि इसके निर्माण में पांच-छह माह लगेंगे. यह फिल्म भी रामकथा संग्रहालय की गैलरी में प्रदर्शित की जाएगी.

 

 

फैजाबाद न्यूज़ डेस्क

Share this story

Tags