Samachar Nama
×

Durg दिल्ली के ज्ञानोत्सव में सीयू की स्वावलंबी छत्तसीगढ़ योजना को मिली सराहना,अनुभवजन्य के साथ रोजगार परक शिक्षा भी जरूरी: चक्रवाल
 

Durg दिल्ली के ज्ञानोत्सव में सीयू की स्वावलंबी छत्तसीगढ़ योजना को मिली सराहना,अनुभवजन्य के साथ रोजगार परक शिक्षा भी जरूरी: चक्रवाल

छत्तीसगढ़ न्यूज़ डेस्क,  सीयू के कुलपति प्रो. आलोक कुमार च्रकवाल दिल्ली के आईसीएआर में 17 नवंबर से आयोजित तीन दिवसीय ज्ञानोत्सव-2079 में राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के क्रियान्वयन पर व्याख्यान दिया.
प्रो. चक्रवाल ने इसके क्रियान्वयन के संबंध में गुरु घासीदास केंद्रीय विश्वविद्यालय द्वारा किए जा रहे प्रयासों के बारे में अपना प्रस्तुतिकरण दिया. प्रो. चक्रवाल ने बताया कि किस प्रकार विश्वविद्यालय, स्वावलंबी छत्तीसगढ़ योजना के माध्यम से प्रेरणा का स्त्रोत बना हुआ है. हमें युवाओं के मध्य राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के तहत अनुभवजन्य शिक्षा के साथ रोजगारपरक एवं कौशल विकास के महत्व को प्रसारित करना होगा. उन्होंने कहा कि गुरु घासीदास विश्वविद्यालय के नेतृत्व में देश के प्रतिष्ठित 12 केंद्रीय विश्वविद्यालय एक साथ मिलकर अकादमिक बैंक ऑफ क्रेडिट योजना पर कार्य कर रहे हैं. जिसमें विद्यार्थी किसी एक संस्थान से अर्जित क्रेडिट को किसी अन्य संस्थान में पढ़ते हुए डिग्री पूरा करने के लिए कभी भी प्रयोग में ला सकता है.

नवाचार के प्रयोगों की सराहना
भारत सरकार के शिक्षा राज्य मंत्री डॉ. सुभाष सरकार ने गुरु घासीदास विश्वविद्यालय में किए गए नवाचार के प्रयोगों की सरहना करते हुए अन्य शिक्षण संस्थानों के प्रमुखों को प्रेरणा लेने के लिए कहा. इस दौरान अध्यक्ष आईसीसीआर विनय सहस्त्रबुद्धे, चेयरमैन नैक एक्सिक्टिव डॉ. भूषण पटवर्धन , कुलपति चौधरी बंसीलाल विश्वविद्यालय सहित अन्य विवि के कुलपति उपस्थित थे.

दुर्ग न्यूज़ डेस्क !!!
 

Share this story