Samachar Nama
×

Dehradun निर्माण एजेंसी की लापरवाही से एसटीएच में आईसीयू का काम लटका

लापरवाही
 

उत्तराखंड न्यूज़ डेस्क,  डॉ. सुशीला तिवारी राजकीय अस्पताल (एसटीएच) में 32 ऑक्सीजन व 10 आईसीयू बेड के निर्माण का मामला लटका हुआ है. मामले में राजकीय मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने निर्माण एजेंसी को आधा दर्जन से ज्यादा नोटिस भेजे हैं. बावजूद इसके निर्माण एजेंसी काम को पूरा नहीं कर रही है. काम पूरा नहीं होने के चलते मरीज को तकलीफ झेलनी पर रही है. एसटीएच कुमाऊं का सबसे बड़ा सरकारी अस्पताल है. जिसमें कुमाऊं अलावा उत्तरप्रदेश तक से बड़ी संख्या में मरीज इलाज कराने आते हैं.
यहां वर्तमान में करीब 130 से ज्यादा बेड का आईसीयू है जो हर समय गंभीर मरीजों से पैक रहता है. ऐसे में अस्पताल को एक और आईसीयू की जरूरत थी. वर्ष 21 में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के तहत 3.89 करोड़ रुपये से अस्पताल में 30 ऑक्सीजन व 10 आईसीयू बेड का प्री फैब आईसीयू बनाने का प्रस्ताव पास हुआ था.


केंद्र सरकार ने इसके निर्माण का काम एक एजेंसी को दिया था. कॉलेज प्रबंधन के कई बार पत्र लिखने के बावजूद कंपनी ने काम ही शुरू नहीं किया. इस साल कंपनी ने मुश्किल से काम शुरू किया. कंपनी ने इसका ढांचा खड़ा कर दिया है, लेकिन उसके भीतर बेड, मॉनिटर वह अन्य उपकरण रखे जाने बाकी हैं. उपकरण आदि रखने के लिए कॉलेज प्रबंधन ने कंपनी को कई पत्र भी लिखे हैं, लेकिन कंपनी की तरफ से कोई रिस्पांस ही नहीं दिया जा रहा है. काम पूरा नहीं होने के चलते एसटीएच में इलाज के लिए आ रहे गंभीर रोगियों के इलाज में दिक्कत आ रही है.
न स्वास्थ्य विभाग को न चिकित्सा शिक्षा को है जानकारी निर्माण एजेंसी के अधिकारियों से मामले में संपर्क किया गया तो उन्होंने मामले में कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया. साथ ही अधिकारियों ने काम की पूरी जानकारी स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को देने की बात कही.
मामले में जब स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों से इस बाबत जानकारी ली गई तो उन्होंने चिकित्सा शिक्षा विभाग के अधिकारियों को इसकी जानकारी होने की बात कही. देहरादून में बैठे चिकित्सा शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने भी मामले में किसी तरह की जानकारी होने से इनकार कर दिया . कोई अधिकारी गंभीर नहीं दिख रहा.

देहरादून न्यूज़ डेस्क !!!
 

Share this story

Tags