Samachar Nama
×

Bilaspur पत्नी के दाएं हाथ को काटने वाले पति को मिली 10 साल की सजा

s

बिलासपुर न्यूज डेस्क।। निचली अदालत ने धारदार हथियार से पत्नी का दाहिना अंगूठा काटने के जुर्म में पति को 10 साल की जेल और 1200 रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है। जुर्माने की रकम जमा नहीं करने पर सात माह की अतिरिक्त सजा काटनी होगी. कोर्ट ने अपने फैसले में इसे गंभीर किस्म का अपराध बताया है. पीड़िता को 3 लाख रुपये मुआवजा देने का भी आदेश दिया गया है.

मामले की सुनवाई षष्ठम अपर सत्र न्यायाधीश की अदालत में हुई. कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि आरोपी प्रशांत लाल उर्फ ​​मोंटू भारतीय दंड विधान की धारा 459, 506, 307 के तहत दोषी है. अभियुक्त के विरूद्ध प्रमाणित अपराध की प्रकृति एवं स्वरूप को देखते हुए अभियुक्त को परिवीक्षा अधिनियम का लाभ दिया जाना उचित प्रतीत नहीं होता है। कोर्ट ने अलग-अलग धाराओं में अपना फैसला सुनाया है. भारतीय दंड संहिता की धारा 459 के तहत 10 साल की कैद और 500 रुपये का जुर्माना और तीन महीने की कैद, भारतीय दंड संहिता की धारा 506 के तहत दो साल की कैद और 200 रुपये का जुर्माना लगाया गया। जुर्माने की रकम नहीं देने पर एक माह की अतिरिक्त सजा, आईपीसी की धारा 307 के तहत 10 साल की कैद, 500 रुपये जुर्माना और तीन माह की कैद की सजा सुनाई गई। कोर्ट ने अपने फैसले में यह भी कहा कि सभी सजाएं एक साथ चलेंगी. जुर्माने की रकम जमा नहीं करने पर सात माह की अतिरिक्त सजा काटनी होगी.

यह भी पढ़ें
बिलासपुर समाचार: करंट लगने से प्रशिक्षु प्रशिक्षु की मौत, मुआवजा नहीं, रेलवे अस्पताल के खिलाफ दूसरे दिन भी जारी रहा धरना
पीड़ित को मुआवज़ा मुआवज़ा

पीड़िता से सहानुभूति जताते हुए निचली अदालत ने अपने फैसले में कहा है कि हमले में पीड़िता 50 फीसदी विकलांग हो गई है. जिला विधिक सेवा प्राधिकार को शारीरिक रूप से अक्षम होने पर तीन लाख रुपये मुआवजा देने का निर्देश दिया गया है. इस संबंध में निर्णय की प्रति सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, बिलासपुर को अग्रिम कार्यवाही हेतु प्रेषित करने हेतु निर्देशित किया जाता है।

क्या बात है

ज्योति रानी जगत की शादी 7 जुलाई 2021 को फास्टरपुर मुंगेली में आरोपी प्रशांत लाल उर्फ ​​मोंटू से हुई थी। शादी के दो-तीन महीने बाद ही दोनों के झगड़े से तंग आकर ज्योति रानी अपने मामा के गांव कपसिया कला चली गयी. इसके बाद गुजारा भत्ता के लिए मामला फैमिली कोर्ट में पेश किया गया. 13 फरवरी 2023 को आरोपी प्रशांत लाल उर्फ ​​ने मोबाइल फोन पर गाली-गलौज करते हुए फैमिली कोर्ट का केस वापस लेने के लिए ज्योति रानी जगत व उसके परिवार को जान से मारने की धमकी दी. ज्योति ने इसकी शिकायत कोटा थाने में की. पुलिस ने समझाइश देकर प्रशांत को छोड़ दिया। 13 फरवरी 2023 को रात 10:30 बजे आरोपी प्रशांत लाल ने ज्योति रानी जगत के घर का दरवाजा तोड़ दिया, गाली-गलौज की और कोर्ट में केस वापस लेने का दबाव बनाया. विवाद बढ़ने पर ज्योति पर धारदार हथियार से हमला कर दिया गया। जिससे ज्योति के बाएं हाथ का पंजा कट गया। साथ ही दाहिने हाथ के अंगूठे और जांघ पर भी गंभीर चोटें आईं। ज्योति की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी प्रशांत लाल के खिलाफ आईपीसी की धारा 452, 294, 506, 323 के तहत मामला दर्ज कर लिया है.

छत्तिसगढ न्यूज डेस्क।।   

Share this story

Tags