×

Bhopal राज्य सहकारी विपणन संघ ने एमएसपी पर अब तक 3.29 लीटर मीट्रिक टन ग्रीष्मकालीन मूंग की खरीद की

Bhopal राज्य सहकारी विपणन संघ ने एमएसपी पर अब तक 3.29 लीटर मीट्रिक टन ग्रीष्मकालीन मूंग की खरीद की

कृषि प्रधान अर्थव्यवस्था वाला मध्य प्रदेश किसानों को सक्षम और समृद्ध बनाने के लिए प्रतिबद्ध है। राज्य सरकार लगातार कृषि कल्याण योजनाओं और नवाचारों को बढ़ावा दे रही है। किसानों के हित में ऐतिहासिक फैसले भी लिए गए हैं। राज्य सहकारी विपणन संघ को ग्रीष्म वर्ष 2020-21 एवं विपणन वर्ष 2021-22 के लिए पंजीकृत किसानों से ग्रीष्म मूंग एवं उड़द की खरीद के लिए अधिकृत किया गया है। इन फसलों की खरीद अगले 15 सितंबर तक की जाएगी। अब तक 3.29 लाख मीट्रिक टन ग्रीष्मकालीन मूंग समर्थन मूल्य पर खरीदी जा चुकी है।

मध्य प्रदेश अब गेहूं खरीद में अग्रणी राज्य है। कृषि उपज मंडी अधिनियम में संशोधन कर ई-ट्रेडिंग का प्रावधान किया गया और किसानों को उपार्जन केंद्र के साथ-साथ अधिकृत निजी उपार्जन केंद्र व मंडी के डील-शीट सिस्टम से फसल बेचने की सुविधा किसानों के हित में उपलब्ध कराई गई. किसान। मध्यप्रदेश भी उन छह राज्यों में शामिल है जिन्हें प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना के तहत ट्रायल के तौर पर चुना गया है। राज्य के किसानों को इस योजना का अधिक से अधिक लाभ मिले इसके लिए राज्य सरकार समन्वय और प्रशासनिक दृढ़ता के साथ काम कर रही है। योजना के प्रथम लाभार्थी रामभरोस विश्वकर्मा राज्य के हरदा जिले के निवासी हैं।

राज्य को कृषि अवसंरचना कोष के लिए 2020-21 में 7500 करोड़ रुपये का आवंटन प्राप्त हुआ है, जिसमें राज्य का देश में प्रथम स्थान है। किसानों की आय दोगुनी करने के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए आधुनिक मंडियों की स्थापना, फूड पार्क, कोल्ड स्टोरेज की श्रृंखला के साथ-साथ साइलो और गोदामों के निर्माण को इस फंड के माध्यम से मिशन मोड में प्रोत्साहित किया जा रहा है। इससे किसान अपनी उपज एमएसपी की जगह एमआरपी पर बेच सकेंगे। नेशनल एग्रीकल्चर इंफ्रा फाइनेंसिंग फैसिलिटी (एआईएफ) पोर्टल को बहुत कम समय में 2,352 आवेदन प्राप्त हुए हैं। इनका लगातार सत्यापन किया जा रहा है और बैंकों द्वारा 618 करोड़ रुपये का भुगतान भी किया जा चुका है। इस पोर्टल का उद्देश्य कृषि क्षेत्र में बुनियादी ढांचे को मजबूत करना है, जिससे किसानों को देश के बड़े बाजारों तक पहुंच प्राप्त हो सके।

प्रदेश के किसानों को वर्तमान में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के तहत प्रति वर्ष 6,000 रुपये मिल रहे हैं। इसके अलावा, अब मध्य प्रदेश सरकार द्वारा मुख्यमंत्री किसान कल्याण सम्मान निधि योजना के तहत किसानों को 4,000 रुपये प्रति वर्ष दो समान किस्तों में दिया जा रहा है।

Share this story