Samachar Nama
×

Begusarai बिना रजिस्ट्रेशन के ही चल रहे आधा दर्जन नर्सिंग होम, स्वास्थ्य विभाग बेपरवाह, दलाल किस्म के लोग सक्रिय
 

Begusarai बिना रजिस्ट्रेशन के ही चल रहे आधा दर्जन नर्सिंग होम, स्वास्थ्य विभाग बेपरवाह, दलाल किस्म के लोग सक्रिय


बिहार न्यूज़ डेस्क  प्रखंड क्षेत्र क्षेत्र में बिना रजिस्ट्रेशन के नर्सिंग होम का कारोबार फल-फूल रहा है. इस क्षेत्र में लगभग आधे दर्जन झोलाछाप डॉक्टरों के द्वारा ब़गैर रजिस्ट्रेशन ही नर्सिंग होम खोल कर मरीजों का शोषण कर उनके परिजनों को ठगी का शिकार बनाया जा रहा है. इससे आम लोगों को नुकसान हो रहा है.

स्वास्थ्य विभाग के गाइडलाइन के अनुसार किसी भी क्षेत्र में झोलाछाप डॉक्टर बगैर लाइसेंस व बगैर डिग्री का किसी भी मरीज का इलाज नहीं कर सकते हैं लेकिन नियम एवं कानून को धता बताते हुए खोदावन्दपुर प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न गांव में दर्जनों डॉक्टर बगैर रजिस्ट्रेशन कराए ही क्लीनिक चला रहे हैं. लोगों ने बताया कि इन प्राइवेट क्लीनिकों में मरीजों को पहुंचाने में अधिकतर दलाल व क्षेत्र की कुछ आशा कार्यकर्ता के शामिल होने की बात कही जा रही है, जो अपने-अपने क्षेत्र के मरीजों को हॉस्पिटल में अच्छे उपचार नहीं होने की बात बता इन प्राइवेट क्लीनिकों में डॉक्टरों से संपर्क कराते हैं. बताया यह भी जा रहा है कि इन प्राइवेट डॉक्टरों के द्वारा ऑपरेशन तक की भी व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है. जबकि, प्रखंड मुख्यालय स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टर, नर्स सहित सभी तरह की व्यवस्था रहने के बावजूद मरीजों को अस्पताल के बजाए प्राइवेट क्लीनिकों में यह सुविधाएं मुहैया किसके आदेश पर हो रही हैं, यह तो स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के लिए जांच का विषय है. कुछ लोगों ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि बिना लाइसेंस के नर्सिंग होम चलाने वाले इन डॉक्टरों का नेटवर्क काफी मजबूत है. क्षेत्र के सभी गांवों में इनके दलाल सक्रिय रहते हैं जो मरीज को क्लीनिक तक पहुंचाने का काम करते हैं. ऑपरेशन वाले मरीज या अन्य मरीजों से ली गई मोटी रकम में कुछ आशा कार्यकर्ता व दलालों को कमीशन के तौर पर दिए जाने की चर्चा जोर-शोर से होती है. इन झोलाछाप डॉक्टरों का मनोबल इतना बढ़ा हुआ है कि बेखौफ खुले तौर पर यह डिलिवरी सहित ऑपरेशन तक के सभी काम करते हैं. स्थानीय लोगों का कहना है कि स्वास्थ्य विभाग की मिलीभगत से इस क्षेत्र में यह अवैध कारोबार फलफूल रहा है. स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को इतनी फुर्सत नहीं है कि वह ऐसे लोगों पर नकेल कसें. इस संबंध में प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ. दिलीप कुमार ने बताया कि ऐसे क्लीनिको व डाक्टरों के संबंध में शिकायत नहीं मिली है. शिकायत मिलने पर निश्चित तौर पर अवैध रूप से नर्सिंग होम चलाने वाले संचालकों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.


बेगूसराय न्यूज़ डेस्क 

Share this story