Samachar Nama
×

Ajmer अजमेर डिस्कॉम को लगा 11 करोड़ का चूना: पहले इंजीनियर कर रहे थे मीटर रीडिंग
 

Ajmer अजमेर डिस्कॉम को लगा 11 करोड़ का चूना: पहले इंजीनियर कर रहे थे मीटर रीडिंग

राजस्थान न्यूज डेस्क, अजमेर डिस्कॉम प्रबंधन के एक फैसले से डिस्कॉम को करीब 11 करोड़ का नुकसान उठाना पड़ेगा। अभी तक उद्योग में मीटर रीडिंग का काम इंजीनियर बिना कोई अतिरिक्त राशि खर्च किए कर रहे थे, उसके लिए ठेका दिया जा चुका है। यह ठेका भी कुछ दिनों के लिए नहीं बल्कि तीन साल के लिए दिया गया था। ऐसे में यह राशि अब डिस्कॉम के लिए अतिरिक्त बोझ साबित होगी।

मासिक मीटर रीडिंग एवं लोड सर्वे के लिए 108 रुपये प्रति मीटर प्रतिमाह और एनालिसिस मीटर रीडिंग एवं लोड सर्वे के लिए 17 रुपये प्रति मीटर प्रतिमाह भुगतान करने का निर्णय लिया गया है. इसके लिए 24 हजार 28 मीटर है। मासिक मीटर रीडिंग एवं लोड सर्वे के लिए 9 करोड़ 34 लाख 20 हजार 864 रुपये तथा मीटर रीडिंग एवं लोड सर्वे के विश्लेषण के लिए 1 करोड़ 47 लाख 5 हजार 136 रुपये का भुगतान किया जायेगा. इस तरह तीन साल में 24 हजार 28 मीटर के लिए कुल 10 करोड़ 81 लाख 26 हजार रुपये खर्च किए जाएंगे।

अभी तक डिस्कॉम की ओर से उद्योग में मीटर रीडिंग का काम मीटर इंजीनियर ही करते रहे हैं। एमआईपी के मीटर रीडिंग और एलआईपी के एक्सईएन का काम एईएन कर रहा था। डिस्कॉम के पास इसके लिए पर्याप्त इंजीनियर भी हैं। बावजूद इसके इस काम के लिए ठेका दिया गया है।

इसने वर्क ऑर्डर जारी किया

अजमेर डिस्कॉम के अधीक्षण अभियंता (एमएंडपी) वी.के. अग्रवाल की ओर से छह जनवरी को वर्क ऑर्डर भी जारी कर दिया गया है। इनोवेटिव सॉफ्टवेयर सॉल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड आगरा को ठेका दिया गया है। इसमें मासिक मीटर रीडिंग व लोड सर्वे के साथ मीटर रीडिंग एनालिसिस व लोड सर्वे का कार्य दिया गया है। अजमेर डिस्कॉम द्वारा 12 अक्टूबर 2022 को टेंडर जारी किया गया था।
अजमेर न्यूज डेस्क!!!

Share this story