×

कब है भाद्रपद पूर्णिमा श्राद्ध, जानिए तिथि, महत्व और पूजन विधि

Kartik purnima 2020: कार्तिक पूर्णिमा पर होगा गंगा स्नान, इस दिन जरूर करें राशि अनुसार दान

ज्योतिष न्यूज़ डेस्क: हिंदू धर्म में पूर्णिमा तिथि का विशेष महत्व होता हैं वही भाद्रपद पूर्णिमा को पूर्णिमा श्राद्ध कहा जाता हैं इस दिन से ही पितृ पक्ष का आरंभ हो जाता हैं पूर्णिमा श्राद्ध का बड़ा महत्व होता हैं इस साल पूर्णिमा श्राद्ध 20 सितंबर को हैं पूर्णिमा के बाद एकादशी, द्वितीया, तृतीया और अमावस्या श्राद्ध आता हैं इसमें तिथि अनुसार अपने पितरों का पिंडदान कर्म, तर्पण और श्राद्ध कर्म किया जाता हैं

purnima पितृपक्ष की अमावस्या को सर्व पितृ अमावस्या कहा जाता हैं इस दिन उन सभी पितरों का पिंडदान और तर्पण किया जाता हैं जिनकी तिथि ज्ञात नहीं होती या भूल चुके होते हैं तो आज हम आपको पूर्णिमा श्राद्ध का महत्व और पूजन विधि बता रहे हैं तो आइए जानते हैं। 

purnimaजानिए पूर्णिमा श्राद्ध का महत्व—
इस दिन सत्यनारायण की पूजा करने से जातक को जीवन में धन आदि की कभी कमी नहीं होती हैं जो लोग घर में व्रत रखते हैं उनके घर में सुख समृद्धि का वास होता हैं सारे कष्ट दूर होते हैं इस दिन उमा महेश्वर का व्रत किया जाता हैं भगवान सत्यनारायण ने भी इस व्रत को किया था। इस दिन स्नान और दान आदि का भी महत्व होता हैं। भाद्रपद पूर्णिमा के दिन पितृपक्ष का आरंभ हो जाता हैं इस कारण इसका महत्व और अधिक बढ़ जाता हैं। 

purnimaजानिए पूर्णिमा श्राद्ध की विधि—
शास्त्र अनुसार पूर्णिमा श्राद्ध के दिन गए पितरों का श्राद्ध ऋषियों को समर्पित होता हैं इस दिन पितरों के निमित तर्पण आदि किया जाता हैं पूर्णिमा श्राद्ध के दिन गए पितरों को उसी दिन तर्पण दिया जाता हैं उस दिन तस्वीर सामने रखें। उन्हें चंदन की माला पहना कर, सफेद चंदन का तिलक लगाएं। पूर्णिमा श्राद्ध के दिन पितरों को खीर अर्पित करें। खीर बनाते वक्त ध्यान रखें कि उसमें इलायची, केसर, शक्कर, शहद मिलाकर बनाएं। इसक बाद गाय के गोबर के उपले में आज जलाकर पितरों के निमित तीन पिंड बनाकर आहुति दी जाती हैं इसके बाद पंचबली भोग लगाया जाता हैं गाय, कौवा, कुत्ता, चीटी और देवों के लिए प्रसाद निकालें और फिर ब्राह्मण को भोजन कराएं। इसके बाद स्वंय भोजन करें। ध्यान रखें कि श्राद्ध वाले दिन भोजन में प्याज और लहसुन का इस्तेमाल न करें। 

Sharad purnima 2020: कब है शरद पूर्णिमा, जानिए पूजन विधि

जानिए भाद्रपद पूर्णिमा तिथि और समय—
पूर्णिमा तिथि प्रारंभ - सितंबर 20, 2021 को प्रातः 05:30:29 बजे तक
पूर्णिमा तिथि समाप्त - सितंबर 21, 2021 को प्रातः 05:26:40 बजे तक

Adhik maas purnima 2020: अधिकमास की पूर्णिमा पर राशि अनुसार करें इन चीजों का दान

Share this story