×

घर पर कैसे करें पितरों का श्राद्ध, जानिए संपूर्ण विधि और पूजन सामग्री लिस्ट

pitru paksha 2020: चावल से क्यों बनाए जाते है पिंड और क्या है कुशा का महत्व, जानिए

ज्योतिष न्यूज़ डेस्क: धार्मिक तौर पर पितृपक्ष को बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता हैं पितृपक्ष में हिंदू धर्म के लोग अपने पूर्वजों और पितरों की आत्मा की शांति और तृप्ति के लिए श्राद्ध कर्म और पिंडदान करते हैं इससे उनके पितर अति प्रसन्न होकर उन्हें आशीर्वाद प्रदान करते हैं पितरों के आशीर्वाद से घर परिवार में धन दौलत, सुख सुविधा, मान सम्मान और ऐश्वर्य की वृद्धि होती हैं तो आज हम आपको इसके बारे में विस्तार से बता रहे हैं तो आइए जानते हैं। 

pitru paksha 2020:  श्राद्ध पक्ष में करें इन चीजों का दान, आर्थिक परेशानियां होंगी दूरजानिए कब से शुरू हो रहा पितृपक्ष—
पंचांग के मुताबिक पितृपक्ष भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि से आरंभ होकर आश्विन मास की अमावस्या तिथि तक होता हैं इस साल में भादो की पूर्णिमा 20 सितंबर 2021 को होगी। इसी दिन पितृपक्ष शुरू हो रहा हैं और इसका समापन 6 अक्टूबर 2021 को होगा। पितृपक्ष की पहली श्राद्ध 20 सितंबर को और अंतिम श्राद्ध 6 अक्टूबर को किया जाएगा।    

Pitru Paksha 2020: कब है पहला पितृपक्ष श्राद्ध, जानिए इससे जुड़ी खास बातेंजानिए श्राद्ध कर्म की सही विधि—
पितृपक्ष में पितरों का श्राद्ध करने और तर्पण देने का विशेष महत्व होता हैं पितरों का तर्पण करने का अर्थ उन्हें जल देना होता हैं इसके लिए प्रति दिन सुबह उठकर स्नान आदि से निवृत होकर तर्पण की सामग्री लेकर दक्षिण की ओर मुंह करके बैठ जाए। अब सबसे पहले अपने हाथ में कुश, जल, अक्षत, पुष्प और तिल लेकर दोनों हाथ जोड़कर अपने पितरों का ध्यान करते हुए उन्हें आमंत्रित करें।

pitru paksha 2020 : इस दिन से शुरू हो रहे पितृपक्ष, जानिए श्राद्ध कर्म से जुड़े मंत्रवही इस दौरान ‘ॐ आगच्छन्तु में पितर और ग्रहन्तु जलान्जलिम’ का जाप करें। अब उसे पितरों का नाम लेते हुए पृथ्वी पर गिरा दें। इसी तरह 5,7 या 11 बार अंजली दें। जीवन में सुख शांति और समृद्धि बनाए रखने की प्रार्थना करें। जिस तिथि को आपके पितरों की मृत्यु हुई हो। उस तिथि को उनके नाम से अपनी श्रद्धा और यथाशक्ति के अनुसार ब्राह्मणों को भोजन करवाएं।  भोजन कौओं और कुत्तों को भी खिलाएं। 

Pitru Paksha 2020: कैसे हुई पितृ पक्ष की शुरुआत, यहां पढ़ें इससे जुड़ी पौराणिक कथाजानिए श्राद्ध पूजन की सामग्री लिस्ट—
पितृपक्ष में पितरों का तर्पण करने और उन्हें श्राद्ध करने के लिए रोली, सिंदूर, छोटी सुपारी, रक्षा सूत्र, चावल, जनेउ, कपूर, हल्दी, देसी घी, माचिस, शहद, काला तिल, तुलसी पत्ता, पान का पत्ता, जौ, हवन सामग्री, गुड़, मिट्टी का दीपक, रुई बत्ती, अगरबत्ती, दही, जौ का आटा, गंगाजल, खजूर, केला, सफेद पुष्प, उड़द, गाय का दूध, घी, खीर, स्वांक के चावल, मूंग, गन्ना की जरूरत होती हैं इस लिए इसे पितृपक्ष के पहले ही एकत्र कर लें। 

pitru paksha 2020 : इस दिन से शुरू हो रहे पितृपक्ष, जानिए श्राद्ध कर्म से जुड़े मंत्र

Share this story