×

क्या आपकी भी आर्थिक स्थिति में नहीं हो रहा सुधार, तो शुक्रवार को पढ़ें ये आरती

क्या आपकी भी आर्थिक स्थिति में नहीं हो रहा सुधार, तो शुक्रवार को पढ़ें ये आरती

हिंदू धर्म में सप्ताह के सातों दिनों को किसी देन किसी देवी देवता की पूजा के लिए विशेष माना जाता हैं वही शुक्रवार का दिन देवी मां लक्ष्मी की पूजा अर्चना के लिए खास होता हैं, धार्मिक तौर पर माता लक्ष्मी को धन वैभव, समृद्धि और ऐश्वर्य की देवी कहा गया हैं इनकी पूजा विधि पूर्वक करने से जातक के जीवन में धन धान्य की कोई कमी नहीं होती हैंक्या आपकी भी आर्थिक स्थिति में नहीं हो रहा सुधार, तो शुक्रवार को पढ़ें ये आरती वही कोरोना काल में इन लोगों को भी आर्थिक परेशानी उठानी पड़ रही हैं उन्हें आज यानी शुक्रवार के दिन माता लक्ष्मी की विधि विधान से पूजा करनी चाहिए इसके बाद देवी मां की आरती पढ़नी चाहिए ऐसा करने से आर्थिक तंगी की समस्या हमेशा के लिए दूर हो जाती हैं और देवी मां लक्ष्मी की विशेष कृपा भी प्राप्त होती हैं तो आज हम आपके लिए लेकर आए है माता लक्ष्मी की पूरी आरती।क्या आपकी भी आर्थिक स्थिति में नहीं हो रहा सुधार, तो शुक्रवार को पढ़ें ये आरती

यहां पढ़ें मां लक्ष्मी की आरती—

ओम जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता।
तुमको निशिदिन सेवत, हरि विष्णु विधाता॥
ओम जय लक्ष्मी माता॥

उमा, रमा, ब्रह्माणी, तुम ही जग-माता।
सूर्य-चंद्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता॥
ओम जय लक्ष्मी माता॥

दुर्गा रुप निरंजनी, सुख सम्पत्ति दाता।
जो कोई तुमको ध्यावत, ऋद्धि-सिद्धि धन पाता॥
ओम जय लक्ष्मी माता॥

तुम पाताल-निवासिनि, तुम ही शुभदाता।
कर्म-प्रभाव-प्रकाशिनी, भवनिधि की त्राता॥
ओम जय लक्ष्मी माता॥

जिस घर में तुम रहतीं, सब सद्गुण आता।
सब सम्भव हो जाता, मन नहीं घबराता॥
ओम जय लक्ष्मी माता॥

तुम बिन यज्ञ न होते, वस्त्र न कोई पाता।
खान-पान का वैभव, सब तुमसे आता॥
ओम जय लक्ष्मी माता॥

शुभ-गुण मंदिर सुंदर, क्षीरोदधि-जाता।
रत्न चतुर्दश तुम बिन, कोई नहीं पाता॥
ओम जय लक्ष्मी माता॥

महालक्ष्मीजी की आरती, जो कोई जन गाता।
उर आनन्द समाता, पाप उतर जाता॥
ओम जय लक्ष्मी माता॥

सब बोलो लक्ष्मी माता की जय, लक्ष्मी नारायण की जय।क्या आपकी भी आर्थिक स्थिति में नहीं हो रहा सुधार, तो शुक्रवार को पढ़ें ये आरती

Share this story