×

Third wave: टीकाकरण की दर, संक्रमण नहीं, यह बताएगा कि लॉकडाउन में कब ढील दी जाए

Third wave: टीकाकरण की दर, संक्रमण नहीं, यह बताएगा कि लॉकडाउन में कब ढील दी जाए

नजेहल ब्रिटेन में कोरोना की तीसरी लहर। डेल्टा प्रजातियों की आशंका के कारण रिलीज की तारीख स्थगित कर दी गई है। कलकत्ता की रहने वाली रेमोना सेनगुप्ता लंदन में डॉक्टर हैं। वह पूर्वी लंदन में प्रतिदिन कोरोना मरीजों का इलाज करने के अलावा लंदन स्कूल ऑफ ट्रॉपिकल मेडिसिन में संक्रामक रोगों की पढ़ाई कर रहे हैं। वह भारत में आने वाली तीसरी लहर को लेकर काफी चिंतित हैं। इस खतरे की बेहतर तैयारी कैसे करें, Vaccinations In India Slide Further 7-day Average Lowest In 2 Months -  संकट: 7 दिन से लगातार घट रही टीकाकरण की दर, आंकड़ा दो महीने के सबसे निचले  स्तर पर - Amar

लंदन में अभी क्या स्थिति है?

तीसरी लहर में पूरा शहर काफी नजहल है। मई के दूसरे सप्ताह में संक्रमण दर में तेजी से गिरावट आई। लेकिन डेल्टा प्रजातियों में वृद्धि के साथ, जून की शुरुआत में यह संख्या अचानक बहुत बढ़ गई। अब इसमें फिर से धीरे-धीरे गिरावट आ रही है। लेकिन अगले हफ्ते क्या होगा यह कोई नहीं जानता।

क्या वहां सभी को टीका लगाया गया है?

बहुतों के पास है। कुछ लोगों की केवल एक खुराक होती है। दरअसल, ऐसे लोगों का एक समूह है जो साइड इफेक्ट के डर से टीकाकरण नहीं कराना चाहते हैं। शायद उन्हें 3-4 बार लेने के बाद। फिर से कई सोच रहे हैं, बाकी निक हैं, देखते हैं क्या होता है, हम इसे बाद में लेंगे। समझे नहीं, हम ऐसी स्थिति में नहीं हैं जहां हमें इतना लंबा इंतजार करना पड़े। उस पर एक और टीम है! कहने वालों के मुताबिक, ‘कोरोना-टोरोना किसु नहीं, इससे मुझे कोई तकलीफ नहीं होगी।’ इन्हीं सब वजहों से ब्रिटेन में संक्रमण की दर काफी बढ़ गई है। मैं कई युवाओं में देखता हूं, शायद उन्हें अस्पताल जाने की जरूरत नहीं है, लेकिन वे लंबे समय से कोविड से पीड़ित हैं। कोई 3 महीने, कोई 6 महीने! थकान, बदन दर्द- इस लंबे कोविड में कई नए लक्षण दिखाई दे रहे हैं।

भारत में भी कोरोना की दूसरी लहर से युवा काफी पीड़ित हैं।

यह कहना बहुत राजनीतिक बात होगी, लेकिन इतनी बड़ी आबादी वाले देश में यह समझना मुश्किल है कि अपने लोगों को टीका लगाए बिना विदेशों में निर्यात करने के बारे में कैसे सोचा जाए। हालांकि, टीकाकरण दर हर राज्य में समान नहीं थी। बहुत कम लोगों को टीका लगाया गया है। मैंने सुना है कि एक अस्पताल में प्रतिदिन 100-200 लोगों का टीकाकरण किया जा रहा है। लंदन में एक जगह पर हर दिन 1500 लोगों को टीका लगाया गया है। अगर ऐसा है तो जरा सोचिए कि भारत में जनसंख्या कितनी कम है।Door To Door Vaccination Of Three Thousand People In Jammu, Improvement In  Covid Recovery Rate - दरबाजे पर टीका: तीन हजार लोगों को घर-घर जाकर टीकाकरण,  कोविड रिकवरी दर में सुधार -

इतने सारे लोगों को एक साथ टीका लगाने का तरीका क्या है?

लंदन में टीकाकरण के नियम बहुत अलग हैं। प्रत्येक केंद्र पर टीकाकरण करने वाले स्वास्थ्य कर्मियों की संख्या 2-3 के बजाय कम से कम 7-8 है। इतने अधिक लोग हर घंटे टीका लगवा रहे हैं। हालांकि, भारत में ऐसा केंद्र स्थापित करना मुश्किल है। लोग टीकाकरण कराने के लिए दौड़ पड़े ताकि वहां से संक्रमण बढ़ जाए। तो सबसे अधिक फायदा वैन या बस द्वारा मोबाइल टीकाकरण केंद्र की व्यवस्था करने में सक्षम होना है। अधिक लोगों को बाद में के बजाय जल्दी ही टीका लगाया जा सकता है।

लॉकडाउन के कुछ नियम हैं। संक्रमण की दर यूं ही कम नहीं होती है। एक जगह कितने लोगों को टीका लगाया गया है, यह देखकर लॉकडाउन में ढील दी जानी चाहिए। नहीं तो कुछ दिक्कतें होंगी। एक, कई को मारक नहीं मिला होगा। लेकिन दोनों पार्टियां आमने-सामने हैं। जिन लोगों को यह नहीं मिलता है, उनके संक्रमित होने का खतरा बढ़ रहा है। दो, कई मामलों में बिना लक्षण वाले लोग अधिक होते हैं। या हो सकता है कि हल्के लक्षण हों, बिना परीक्षण के इधर-उधर भटकना। प्रत्येक मामले में, उन्होंने इसे जब्त कर लिया है, बाधाओं के बावजूद हम शायद ही कल्पना कर सकते हैं।” तीसरा, जब लॉकडाउन खुलता है तो लोग सोचते हैं कि ‘कोरोना चला गया।’ यही खतरा है। लोग इंटर्नशिप, बाजार, शादी में व्यस्त हैं।

क्या आपको लगता है कि लॉकडाउन एक रास्ता है?

नहीं कि। नई लहर को रोकने का कोई उपाय नहीं है। जब कोई वायरस रूप बदलता है, तो वह कई तरह से ऐसा करता है, एक तरह से नहीं। भारत में कई प्रजातियों का निर्माण हुआ। उनका मिलान किया जाता है। अब डेल्टा प्रजाति बच गई है। क्योंकि यह सबसे घातक है। डेल्टा ब्रिटेन में केंट प्रजाति की तुलना में कम से कम 80 प्रतिशत अधिक संक्रामक है। फिलहाल भारत में डेल्टा प्रजाति के संक्रमण में कमी आई है। लेकिन यह दुनिया के बाकी हिस्सों में ज्यादा फैल रहा है। ये फिर से नए तरीके से बदलेंगे। नतीजतन, नई लहर को रोकने का कोई तरीका नहीं है।टीकाकरण: चढऩे लगा इंद्रधनुषी रंग - on the path of mission indradhanush -  AajTak

फिर क्या करें?

टीकाकरण के प्रति लोगों को जागरूक करने की जरूरत है। इसका मतलब है कि आपको जन्म के बाद बीसीजी, एमआरआर, पोलियो या हेपेटाइटिस के खिलाफ टीका लगवाने की जरूरत है। देश के हर व्यक्ति के स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियों को एक जगह रिकॉर्ड करना बेहद जरूरी है। हमें ऑनलाइन एक ऐसा सिस्टम बनाने की जरूरत है, जहां से डॉक्टर आसानी से सारी जानकारी हासिल कर सकें। मान लीजिए किसी को मधुमेह है। जब उन्हें कोरोना के साथ अस्पताल में भर्ती कराया जाता है, तो वह जानकारी उनके डॉक्टर को आसानी से उपलब्ध होनी चाहिए। ताकि आपात स्थिति में अनावश्यक देरी न हो। लोगों को सिर्फ खुद को सुरक्षित रखने की नहीं, समझने की जरूरत है। दूसरों को भी संरक्षित करने की जरूरत है। मास्क कैसे पहनना है, या इसे उतारने का सही तरीका क्या है, इस बारे में जागरूकता बढ़ाने की जरूरत है। उसके बाद, ‘सोशल बबल’ की अवधारणा सभी के लिए स्पष्ट नहीं है। आप किसी भवन में अपने स्वयं के बुलबुले बना सकते हैं। निडर होकर समाजीकरण कर सकते हैं। लेकिन तभी जब उस इमारत के लोग बाहर नहीं जा रहे हों, और कोई बाहर से नहीं आ रहा हो। एक बुलबुले वाले लोग दूसरे बुलबुले के साथ नहीं घूम सकते। यदि आप सामाजिक दूरी बनाए रखना चाहते हैं, तो आप अभी किसी के घर और पार्टी में नहीं जा सकते। इन मुद्दों को समझाने की जरूरत है। और सरकार को इसे केवल हिंदी या अंग्रेजी ही नहीं, सभी क्षेत्रीय भाषाओं में बढ़ावा देना चाहिए।

लगातार हो रहे लॉकडाउन से कई लोगों की रोजी-रोटी छिन गई है। इसलिए सबकी सांसें थम गई हैं।

इसके लिए सरकार को आय का रास्ता बढ़ाने के लिए एक प्रोजेक्ट लेना होगा, जिस तरह यह समझना जरूरी है कि हाइपरथायरायडिज्म न केवल एक स्वास्थ्य समस्या है, बल्कि एक सामाजिक बीमारी भी है। लोग अपनी रोजी-रोटी खो रहे हैं, घर बैठे भटक रहे हैं, मानसिक रूप से टूट चुके हैं। इसलिए उन्हें मदद के लिए विभिन्न हेल्पलाइन नंबर खोलने होंगे। जहां अलग-अलग भाषाओं में काउंसलिंग की जाएगी। तीसरी लहर आने से पहले ऐसी तैयारी करने की जरूरत है।

Share this story