×

जानिए, कैसें BIZGURUKUL भारत के युवाओं को अपने यूनिक एजुकेशन पोर्टल से सशक्त बना रहा है ?

जानिए, कैसें BIZGURUKUL भारत के युवाओं को अपने यूनिक एजुकेशन पोर्टल से सशक्त बना रहा है ?

जब लॉकडाउन के समय और उसके बाद सारा देश सदमे में था और देश का पढ़ा लिखा युवा वर्ग अपने कैरियर और भविष्य को ले कर असमंजस की स्थिति में था। तब ऋतविज तिवारी, रोहित शर्मा और केशव लाल देश के लाखों युवाओं को एक सुरक्षित भविष्य और कौशल देने के लिए एक अनोखा एडटेक प्लेटफॉर्म “बिज्गरुकुल” बनाने के लिए दिन रात मेहनत कर रहे थे। इसमें प्लेटफॉर्म पर ऑनलाइन पाठ्यक्रमों और लाइव प्रशिक्षण सत्रों के माध्यम से उच्च गुणवत्ता के ज्ञान और कौशल प्रदान करने पर ध्यान केंद्रित किया गया था ताकि वो ना सिर्फ युवाओं को ज्ञान दे बल्कि समझने और इस्तेमाल में भी देश के लोगो के अनुरूप हो। और देखते ही देखते इस टीम का सपना साकार होता नजर आ रहा है, कुछ ही समय में बिज्गरुकुल ने देश के लगभग हर शहर में 25000 से अधिक छात्रों तक अपनी पहुंच बनायीं है।

क्या बिज्गरुकुल को अपने प्रतिस्पर्धीयों से अलग बनता है

तेजी से बदलते बाजार और ज्ञान के दौर में बिज्गरुकुल की टीम अपने छोटे और सरल पाठ्यक्रम और व्यावसायिक उद्योग के कार्यक्रम, व्यावसायिक कौशल / जीवन कौशल, पाठ्यक्रमों में छात्रों का अपने कौशल का प्रदर्शन का अधिकार देता हैं । इतना ही नहीं,BIZGURUKUL ने घर की महिलाओं, छात्रों, कामकाजी लोगों आदि को अपने सहयोगी के रूप में रखा हैं । इसके लिए उन्होंने अब तक करीब 6.5 करोड़ से अधिक का भुगतान भी किया है ।

पहली सालगिराह :

हाल ही में, 24 मार्च को टीम BIZGURUKUL अपनी पहली वर्षगांठ मनाई हैं । इस मौके पर टीम ने बताय कि, “हम अपने देश के लोगों के जीवन को डिजिटल रूप देने के लिए बहुत खुश है और इसके लिए हम आप सबके आभारी है । इसके आगे टीम ने कहा कि, यह एक लंबी यात्रा रही है जहां हमने इस मिशन शुरू किया और बड़ी ही मेहनत के साथ में ये मुकाम हासिल किया ।

भविष्य के बारे बताते हुए BIZGURUKUL की टीम ने कहा कि बूटस्ट्रैप्ड स्टार्टअप अपने विकास पथ पर काम कर रहा है और मौजूदा पाठ्यक्रमों के साथ साल 2021 के अंत तक अपने छात्र आधार को 1 लाख से अधिक करने की योजना बना रहा है । इसके आगे BIZGURUKUL की टीम ने कहा कि, हम साल 2025 के अंत तक 1 मिलियन से अधिक उद्यमियों को शिक्षित करेंगे ताकि वो लोग भी हमारी टीम का हिस्सा बन सके !

 

Share this story